अपराधी हैं या नहीं ये मुद्दा होना ही नहीं चाहिए
अभिनेत्री रवीना टंडन का कहना है कि उनके संबंधों को आपराधिक माना जाए या नहीं ये बहस का मुद्दा होना ही नहीं चाहिए। वो भी देश के नागरिक हैं और सामान्‍य लोगों की तरह उनको भी अपनी पसंद के हिसाब से जीने का अधिकार मिलना चाहिए। रवीना ने ये विचार तब रखे जब उनसे पूछा गया कि सुप्रीम कोर्ट समलैंगिकों के सेक्‍सुअल फ्रीडम और रिलेशन के बारे में भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 377 पर विचार करने की बात कह रहा है, इस पर वो क्‍या सोचती हैं। 

Raveena sport LGBT

एक हेल्‍थ मैग्‍जीन की लांचिंग पर आयी थीं
रवीना हेल्‍थ मैग्‍जीन हेल्‍थ एण्‍ड न्‍यूट्रीशन के कवर की लांचिंग के लिए वहां मौजूद थीं। पत्रिका ने अपने लेटेस्‍ट इश्‍यू के कवर पर रवीना की फोटो पब्‍लिश की है। समलैंगिकों को उनके अधिकार का सर्मथन करते हुए रवीना ने उन्‍हें समाज का अभिन्‍न अंग बताया। हाल ही में रवीना ने अपनी दो गोद ली हुई बेटियों में छोटी बेटी छाया की शादी की है। रवीना ने इन बचचियों को शादी के पहले ही गोद लिया था।


inextlive from Bollywood News Desk

Bollywood News inextlive from Bollywood News Desk