- प्राइमरी, जूनियर हाईस्कूल और मॉडल स्कूल में बनेगी लाइब्रेरी

-लाइब्रेरी में महापुरुषों की कहानियां, संस्कार और प्रेरणादयक बुक्स रहेंगी मौजूद

===========================

2000-प्राइमरी स्कूल डिस्ट्रिक्ट में

794-जूनियर स्कूल डिस्ट्रिक्ट में

100-प्राइमरी मॉडल स्कूल्स डिस्ट्रिक्ट में

5000-रुपए मिलेंगे एक प्राइमरी स्कूल्स को लाइब्रेरी के लिए

10,000 रुपए मिलेंगे जूनियर हाईस्कूल में लाइब्रेरी बनाने को

13,000 रुपए मिलेंगे मॉडल स्कूल में लाइब्रेरी के लिए

1 करोड़ 85 लाख रुपए पूरी डिस्ट्रिक्ट को मिलेगा करीब बजट

31 जनवरी तक मिलेगी धनराशि

31 मार्च तक खरीदनी होंगी बुक्स

=============================

BAREILLY :

निजी स्कूल ही नहीं अब सरकारी स्कूल्स के बच्चे भी संस्कार सीखेंगे. इसके लिए यूपी के बेसिक शिक्षा परिषद के सभी स्कूल्स में राज्य परियोजना परिषद ने तैयारी कर ली है. इस संबंध में बीएसएस को पत्र भेजकर जनवरी में ही लाइब्रेरी तैयार कराने का आदेश जारी कर दिया गया है. बीएसए ने इस संबंध में सभी एबीआरसी और एनपीआरसी कोजरूरी दिशा निर्देश भी जारी कर दिए हैं. वहीं इस मामले में एबीआरसी ने बताया कि लाइब्रेरी सभी स्कूल्स में बनाई जानी है इसके लिए कवायद शुरू कर दी गई है.

जल्द जारी होगा बजट

निजी स्कूलों में बच्चों को पढ़ाई के साथ संस्कार और जीके आदि की जानकारी भी दी जाती है, लेकिन सरकारी स्कूल्स के बच्चे इन सभी बातों से कहीं न कहीं अछूते रह जाते हैं. इसके लिए सरकार ने गुणवत्ता शिक्षा कार्यक्रम के तहत सभी स्कूल्स में लाइब्रेरी बनाने का निर्णय लिया है. लाइब्रेरी में एनसीईआरटी की बुक्स ही नहीं महापुरुषों से संबंधित बुक्स, संस्कार देने वाली बुक्स, प्रेरणा दायक कहानी बुक्स, सामान्य ज्ञान, कविता, विज्ञान प्रगति और सहायक बुक्स भी रहेंगी.

स्कूल में ही पढ़ने को मिलेगी बुक्स

लाइब्रेरी की बुक्स स्कूल में पढ़ने वाले सभी बच्चों को स्कूल समय के लिए ही दी जाएंगी. इसके लिए स्कूल के प्रधानाचार्य को लाइब्रेरी का नोडल अधिकारी बनाया जाएगा. लाइब्रेरी का पूरा रखरखाव स्कूल के प्रधानाचार्य को ही करना होगा. वह बच्चों को उनकी इच्छानुसार बुक्स को इशू करने के बाद जमा भी कराएंगे. ताकि दूसरे बच्चे भी उन बुक्स को पढ़ सकें.

===============

-डिस्ट्रिक्ट के सभी जूनियर और प्राइमरी स्कूल्स में लाइब्रेरी बनाने का आदेश आया है. इसके तहत सभी स्कूल्स में लाइब्रेरी बनाई जाएगी. जिसमें स्कूल के प्रधानाचार्य को ही लाइब्रेरी का नोडल अफसर बनाया जाएगा. अभी बुक्स की लिस्ट और बजट इशू नहीं हुआ है. जल्द ही बजट जारी होने की उम्मीद है.

देवेश राय, एबीआरसी