RANCHI: राजधानी में अगर जमीन या फ्लैट खरीदने की सोच रहे हैं तो इसी महीने खरीद लें, क्योंकि इस महीने के बाद आपको ज्यादा कीमत चुकानी पड़ेगी. दरअसल, हर साल की भांति इस साल भी रांची में जमीन व फ्लैट का रेट बढ़ाने की तैयारी विभाग ने शुरू कर दी है. एक अगस्त से नई रेट की घोषणा होने वाली है. विभागीय सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, एक अगस्त से हर हाल में नई रेट लागू होनी है. इसके अनुसार, शहरी क्षेत्र में 10 परसेंट और रूरल एरियाज में पांच परसेंट तक रजिस्ट्री की दर बढ़ सकती है. नई दर की घोषणा इसी महीने कभी भी की जा सकती है.

क्यों बढ़ता है साल दर साल रेट

जमीन और फ्लैट का बाजार मूल्य काफ अधिक होता है. हर साल इसमें इजाफ ा होता है, बाजार मूल्य के बराबर सरकारी मूल्य लाने के लिए हर साल रेट बढ़ाया जाता है. हालांकि, अब भी अधिकतर वाडरें में बाजार मूल्य सरकारी मूल्य से डेढ़ गुणा अधिक है. रांची सहित राज्य के सभी शहरी क्षेत्रों में जो सरकारी दर है, उससे कई गुणा अधिक बाजार दर है. लेकिन ग्रामीण क्षेत्र में सरकारी दर से बाजार दर कम वैल्यू है.

अब भी बाजार से कम रेट

जमीन की रजिस्ट्री कराने में सरकारी रेट में बेतहाशा बढ़ोतरी तो की गई है, लेकिन अभी भी यह बाजार मूल्य से काफ कम है. क्योंकि बड़ा घाघरा, कुसई, डोरंडा, बुटी मोड़, कोकर क्षेत्र में जेनरल कैटेगरी की जमीन कम से कम 20 लाख रुपए प्रति डिसमिल के हिसाब से बिक रही है. शहर के अन्य क्षेत्रों में भी जमीन का रेट काफ अधिक होने के बावजूद सरकारी रेट कम हो गई है, जबकि आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में कई जगहों पर बाजार से अधिक सरकारी दर है.

सिटी में 10 परसेंट बढ़ेगा रेट

शहरी क्षेत्र में हर साल जमीन और फ्लैट की रेट में दस प्रतिशत की बढ़ोतरी तय है. विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि हर साल एक अगस्त से जमीन की रजिस्ट्री दर बढ़ाई जाती है. इसमें शहरी क्षेत्र में दस प्रतिशत और ग्रामीण क्षेत्र में 5 प्रतिशत तक बढ़ोतरी होनी है. राजधानी में अभी रजिस्ट्री की जो दर है उसमें एक अगस्त से दस प्रतिशत तक की बढ़ोतरी के साथ रजिस्ट्रेशन होगा.

प्री-रजिस्ट्रेशन होगा अनिवार्य

एक अगस्त से जमीन और फ्लैट की रजिस्ट्री कराने से पहले ऑनलाइन प्रेजेंटेशन और प्री-रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य होगा. यानी जमीन और फ्लैट की रजिस्ट्री से पहले आवेदक को स्वयं या प्रज्ञा केंद्रों में जाकर दस्तावेज का प्री रजिस्ट्रेशन कराना होगा. उसके बाद एक कोड मिलेगा. रजिस्ट्री ऑफि स में सेल डीड के साथ कोड प्रस्तुत करना होगा, सब रजिस्ट्रार कोड से प्री-रजिस्ट्रेशन में प्रस्तुत दस्तावेज का मिलान करेंगे, कमी मिलने पर विक्रेता, खरीदार और गवाह को एसएमएस से बताया जाएगा.