खाने-पीने की चीजें हुई मंहगी
जनवरी में खुदरा कीमतों के हिसाब से महंगाई (CPI) बढ़ने की दर 5.11 परसेंट हो गई. दिसंबर, 2014 में इस किस्म की महंगाई 4.28 परसेंट की दर से बढ़ी थी. हालांकि गौर करने वाली बात है कि महंगाई के ताजा आंकड़े नए आधार वर्ष के हिसाब से हैं. अब इसकी गणना 2010 की जगह 2012 को आधार वर्ष मानकर हो रही है. इसी वजह से देश की आर्थिक विकास दर बढ़ी हुई आई थी. बहरहाल, जनवरी में खाने-पीने की चीजें 6.13 परसेंट के हिसाब से महंगी हुई. इस दौरान ग्रामीण इलाकों की महंगाई दर दिसंबर के 4.16 परसेंट से बढ़कर 5.25 परसेंट हो गई. पिछले माह शहरी इलाकों में महंगाई दर 4.96 परसेंट रही, जबकि दिसंबर में यह दर 4.50 परसेंट थी.

क्‍या बढ़ा और क्‍या घटा
इस आंकड़ों पर सबसे ज्‍यादा असर सब्जियों के दाम ने डाला. सब्जियों के दाम 9 परसेंट तक बढ़े. वहीं जनवरी में सब्जियों की महंगाई दर 0.58 परसेंट से बढ़कर 9 परसेंट हो गई. पिछले माह कोर महंगाई दर 3.9 परसेंट पर आ गई, जो दिसंबर में 5.2 परसेंट थी. कपड़ों की महंगाई दर घटी जनवरी में कपड़ों और फुटवियर की महंगाई दर 6.15 परसेंट रह गई, जबकि दिसंबर में इन चीजों की महंगाई 6.51 परसेंट के हिसाब से बढ़ी थी. पिछले माह ईधन और बिजली की महंगाई 3.74 परसेंट के हिसाब से बढ़ी, जबकि दिसंबर में इनकी महंगाई दर 3.41 परसेंट रही थी.

Hindi News from Business News Desk

Business News inextlive from Business News Desk