कोशिश है कि एेसा हादसा दोबारा न होने पाए
नर्इ दिल्ली (आर्इएएनएस) । हाल ही में उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में  मानवरहित रेलवे क्रॉसिंग पर स्कूल बस के ट्रेन की चपेट में आने से बड़ा हादसा हो गया था।  एेसे में भारतीय रेलवे ने सभी मानवरहित क्रॉसिंग पर आदमी तैनात करने का निर्णय लिया गया है। इस संबंध में रेलवे मंत्रायल के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना कि कुशीनगर जिले में  मानवरहित क्रॉसिंग पर तेज पैसेंजर ट्रेन के बस को टक्कर मारने का हादसा काफी बड़ा था। इसमें 13 स्कूली बच्चों की मौत हो गई थी और 8 घायल हो गए थे। कोशिश है कि एेसा हादसा दोबारा न होने पाए।

सबसे ज्यादा  मानवरहित क्रॉसिंग गुजरात में
 इसके लिए रेलवे सभी मानवरहित क्रॉसिंग पर अपने सेवानिवृत्त कर्मचारियों को दोबारा नौकरी पर रखने की तैयारी में है। इस प्रक्रिया में तेजी से काम करने के लिए  एक कमेटी का गठन हुआ है।अधिकारियों की मानें तो जल्द ही इस दिशा में काम शुरू हो जाएगा। देश में वर्तमान में 5792 मानवरहित रेलवे क्रॉसिंग हैं। इनमें 3479 क्रॉसिंग ब्रॉड गेज (बीजी) सेक्शन पर हैं। सबसे ज्यादा  मानवरहित क्रॉसिंग गुजरात में है।गुजरात में 1700,  उत्तर प्रदेश में 912, बिहार में 742, राजस्थान में 464 है।

मानवरहित क्रॉसिंग को  खत्म करना लक्ष्य
इसके बाद पश्चिम बंगाल में 314 और मध्य प्रदेश में 225 मानवरहित क्रॉसिंग हैं। इनकी सेवानिवृत्त कर्मचारियों की तैनाती तब तक रहेगी , जब तक कि बीजी सेक्शन पर लो हाइ सबवे (एलएचएस), रोड ओवर ब्रिज (आरओबी) और रोड अंडर ब्रिज (आरयूबी) के आदि का निर्माण नहीं हो जाता है।वहीं बता दें कि रेलवे की पहली कोशिश बीजी सेक्शन के सभी 3,479 मानवरहित क्रॉसिंग को तत्काल आधार पर खत्म करना है  क्योंकि इनमें हादसे ज्यादा होते हैं। राज्य संचालित ट्रांसपोर्टर का पहला लक्ष्य मानव रहित स्तर क्रॉसिंग को खत्म करना है।

CM योगी का एेलान, तीन साल में कौशल विकास के जरिये देंगे 20 लाख लोगों को रोजगार

एएसपी राजेश साहनी केस : एडीजी ने खड़े किये हाथ, अधर में लटकी जांच

National News inextlive from India News Desk