बुधवार की रात व्यापारी भाइयों की हत्या के बाद लगा जाम गुरूवार रात खुला

ALLAHABAD (26 July): प्रतापगढ़ के कोहड़ौर में बुधवार को हुई व्यापारी भाइयों की हत्या के बाद इलाहाबाद-फैजाबाद राजमार्ग पर जाम लगाने वाले पूरी रात सड़क पर जमे रहे. न जिला स्तर के अधिकारियों की सुनी और न ही मंडल स्तर के अधिकारियों की. सीएम को मौके पर बुलाने की मांग पर अड़े व्यापारियों ने गुरुवार की रात कैबिनेट मिनिस्टर मोती सिंह के आश्वासन पर जाम खोला. इसके बाद आवागमन शुरू हो सका. करीब 20 घंटे तक जाम के चलते फंसे वाहनों को निकलने में घंटों लग गये. मृतक श्यामसुंदर की पत्नी गीता जायसवाल की तहरीर पर पुलिस ने दो अज्ञात बाइक सवार बदमाशों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है.

गुंडा टैक्स न देने पर हुई थी हत्या

कोहड़ौर बाजार निवासी श्यामसुंदर जायसवाल ( 47) ने घर के अगले हिस्से में सीमेंट व सरिया की दुकान खोल रखी थी. छह मई को फोन पर उनसे पांच लाख रुपये की रंगदारी मांगी गई थी. बुधवार रात करीब आठ बजे श्यामसुंदर छोटे भाई श्याममूरत के साथ दुकान पर बैठे थे. इस बीच बाइक से पहुंचे बदमाशों ने गोली मारकर दोनों भाइयों की हत्या कर दी थी. घटना के बाद रात लगभग नौ बजे आक्रोशित परिजनों व व्यापारियों ने घर के सामने इलाहाबाद-फैजाबाद हाईवे पर जाम लगा दिया. मौके पर पहुंचे कंधई एसओ की जीप देख लोग पथराव करने लगे. इससे एसओ की गाड़ी के शीशे क्षतिग्रस्त हो गए. बवाल की सूचना पर देर रात पहुंचे आईजी रमित शर्मा व प्रभारी एसपी पूर्णेंदु सिंह ने कार्रवाई का आश्वासन देकर व्यापारियों को मनाने की कोशिश की, पर बात नहीं बनी. रात नौ बजे से शुरू चक्काजाम समाप्त कराने के लिए गुरुवार की सुबह आठ बजे फिर मौके पर पहुंचे आईजी को निराशा ही हाथ लगी. हालात को देखते हुए एडीजी एसएन साबत बुधवार की रात ही घटनास्थल से पुलिस लाइन पहुंचे और अफसरों संग मीटिंग किए.

शव पहुंचते ही मचा कोहराम

पोस्टमार्टम के बाद दोनों भाइयों का शव गुरुवार दोपहर 12 बजे घर पहुंचा तो कोहराम मच गया. गुस्साए लोगों ने नारेबाजी शुरू कर दी. शव के साथ आईजी रमित शर्मा, डीएम शंभु कुमार, प्रभारी एसपी पूर्णेदु सिंह भी मौके पर पहुंचे. बारिश शुरू हुई तो अफसर व पुलिस के जवान दुकानों में दुबक गए. दोपहर बाद पौने तीन बजे कैबिनेट मंत्री मोती सिंह, जायसवाल समाज लखनऊ की अध्यक्ष अमिता जायसवाल, भाजपा जिलाध्यक्ष ओमप्रकाश त्रिपाठी मौके पर पहुंचे. कैबिनेट मंत्री को देख लोग मुर्दाबाद के नारे लगाने लगे.

कैबिनेट मंत्री ने दिया आश्वासन

हत्यारोपियों की गिरफ्तारी जल्द से जल्द की जाएगी

मृतक व्यापारियों के परिजनों को 10-10 लाख रुपये की आर्थिक सहायता शासन से मिलेगी

परिवार को शस्त्र लाइसेंस दिलाया जाएगा

मुख्यमंत्री से परिवारवालों को मिलवाने की व्यवस्था की जाएगी

घर पर पुलिसकर्मी तैनात होंगे और कोहड़ौर थाने की पूरी फोर्स हटाई जाएगी

कांधरपुर मोड़ और मदाफरपुर मोड़ के बीच अस्थाई पुलिस चौकी स्थापित की जाएगी

एसओ सस्पेंड, एपी सिंह की तैनाती

डबल मर्डर के बाद हुए बवाल से खफा अफसरों ने कोहड़ौर थाने के एसओ नागेंद्र नागर को गुरूवार की देर रात सस्पेंड कर दिया. इनकी जगह क्राइम ब्रांच में तैनात रहे एमपी सिंह को थाने की कमान सौंपी गई है. अब एमपी सिंह के सामने सगे भाईयों की हत्या के खुलासे का बड़ा चैलेंज होगा. बताते हैं कि घटना के बाद नागेंद्र मौके पर गए ही नहीं थे. सूत्रों की मानें तो अभी कुछ और अफसरों पर गाज गिर सकती है. हालांकि अफसरों द्वारा की गई इस कार्रवाई से मृतकों के परिजन व शुभचिंतक व्यापारी संतुष्ट नहीं है. उधर देर रात पुलिस अधिकारियों ने मीटिंग कर घटना के खुलासे का निर्देश दिया है.