-80 फीट रोड, वीआईपी रोड और दादा नगर के पास धंसी सड़कें, नाला बनाने में भ्रष्टाचार खुलकर सामने आ रहा

- 24 घंटे की बारिश के बाद बने हालात ने शहर को स्मार्ट सिटी बनाने की तैयारियों पर लगाया सवालिया निशान

>kanpur@inext.co.in

KANPUR : कानपुर की रोड्स एक के बाद एक 'पाताल' में समा रही है. आखिर क्यों पाताल में ये रोड्स जा रही हैं? ये एक बड़ा सवाल है? कानपुर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए बड़े-बड़े दावे किए जा रहे हैं. जबकि 48 घंटे की बारिश से ये हाल है तो 'स्मार्ट' सिटी बनाने के दावों की हकीकत आप खुद समझ सकते हैं.

धंसी रोड, घर कराया खाली

नजीराबाद थाने के पास कौशलपुरी रोड पर सड़क धंसने के बाद आसपास के घर गिरने का खतरा मंडराने लगा है. इसक बाद घरों को खाली करा लिया गया है. खुदाई में पहले नाला धंसा, इसके बाद सड़क और फुटपाथ का बड़ा हिस्सा धंस गया. बारिश की वजह से उस वक्त वहां कोई मौजूद नहीं था, वरना लोगों की जान भी जा सकती थी. मौके पर पहुंची टीमों ने राहत कार्य श्ाुरू किया.

क्यों धंस रहीं सड़कें

बारिश में सड़कें अचानक ही धंसना शुरू नहीं हो जाती हैं, बल्कि इसके पीछे कहीं न कहीं घटिया और लापरवाही से किया गया निर्माण कार्य जिम्मेदार है. एक्सपर्टस का कहना है कि नाला निर्माण के दौरान न तो नाले की दीवार सीध में खड़ी की जाती है और न ही निचले हिस्से में नाले को पूरी तरह से जोड़ा जाता है. ऐसे में नाले का पानी सड़क के नीचे धीरे-धीरे मिट्टी को काटता रहता है और बारिश में तेज बहाव होने से नाले के आसपास की मिट्टी का कटान काफी तेजी से होता है. ऐसे में सड़क के नीचे का हिस्सा खोखला हो जाता है. इससे सड़क धंस जाती है. शहर में बारिश के दौरान जितनी जगहों पर सड़कें धंसी हैं, उनकी वजह नाला ही था.

--------------

सड़कों पर चारों तरफैली बजरी

बारिश में जलभराव की वजह से शहर की सड़के उखड़ने लगी हैं. इससे बजरी सड़क पर फैली पड़ी है. ट्यूजडे को हैलट रोड पर भारी मात्रा में बजरी होने से 2 स्कूटी सवार फिसल गए और चुटहिल हो गए. यही हाल फजलगंज रोड, विजय नगर, शास्त्री नगर काली मठिया रोड, मरियमपुर चौराहा, मोतीझील चौराहा, ग्वालटोली रोड, वीआईपी रोड, किदवई नगर मेन रोड सहित शहर की सैकड़ों सड़कों पर भारी मात्रा में बजरी आ गई.