-रोडवेज बस कंडक्टर्स ने अधिकारियों पर लगाया उत्पीड़न का आरोप

-नेपाल में भूकंप के दौरान करवाई गई थी अतिरिक्त ड्यूटी

GORAKHPUR: यूपी रोडवेज बस कंडक्टर्स ने रोडवेज के अधिकारियों पर उत्पीड़न का आरोप लगाया है. संविदा परिचालकों का आरोप है कि रोडवेज अधिकारी दिसंबर माह की सैलरी से पैसे काट रहे हैं. उनसे कहा जा रहा है कि नेपाल में आए भूकंप के दौरान पीडि़तों की मदद के लिए इन कंडक्टर्स की कोई ड्यूटी नहीं लगाई गई थी. जबकि यूपी रोडवेज के गोरखपुर रीजन के अधिकारियों ने ही गोरखपुर रीजन के संविदा कंडक्टर्स और ड्राइवर्स की काठमांडू के लिए ड्यूटी लगाई थी.

हुआ था भुगतान

ड्यूटी करने वाले कंडक्टर और ड्राइवर को नेपाल में अतिरिक्त ड्यूटी के एवज में 2500 रुपए भुगतान भी किया था. लेकिन अब इस रुपए को यूपी रोडवेज गोरखपुर रीजन के अधिकारी इनकी सैलरी से रिकवरी करने में लगे हुए हैं. इसको लेकर संविदा चालक-परिचालक संघर्ष समिति के पदाधिकारियों ने आंदोलन करने की तैयारियां कर ली हैं. चालक-परिचालक संघर्ष समिति के क्षेत्रीय अध्यक्ष संजय सिंह ने बताया कि अप्रैल-मई माह में आए भूकंप के दौरान गोरखपुर रीजन की रोडवेज बसों को राहत के लिए चलाया गया था. इसके लिए संविदा चालक-परिचालकों की ड्यूटी भी लगाई गई थी. प्रत्येक ड्राइवर्स और कंडक्टर्स को अलग से 2500 रुपए का भुगतान किया गया था. लेकिन दिसंबर माह की सैलरी जैसे ही इन कंडक्टर्स के पास आई तो उनके वेतन से 500 रुपए काट लिया गया, इस कटौती से क्षुब्ध संविदा कंडक्टर्स ने रोष व्यक्त करते हुए कहा कि जब उन्हें भूकंप पीडि़तों के मदद में ड्यूटी लगाई थी और उसका भुगतान कर दिया तो फिर रीजन के अधिकारी उनकी सेलरी से रिकवरी क्यों कर रहे हैं. अगर रिकवरी बंद नहीं हुई तो आंदोलन के लिए बाध्य होंगे.