-भीड़-भाड़ वाले चौराहों पर कहीं भी बस खड़ी कर करते सवारी का इंतजार

-सवारी देखते ही अचानक लगा देते हैं ब्रेक, हो सकता है हादसा

<-भीड़-भाड़ वाले चौराहों पर कहीं भी बस खड़ी कर करते सवारी का इंतजार

-सवारी देखते ही अचानक लगा देते हैं ब्रेक, हो सकता है हादसा

BAREILLYBAREILLY :

शहर के व्यस्ततम चौराहों पर रोडवेज बसों के ड्राइवर की दादागिरी से जाम लगता है. सरकारी बसें होने के कारण ट्रैफिक पुलिसकर्मी भी इनको रोकने की हिम्मत नहीं जुटा पाते और न ही कोई कार्रवाई करते हैं. इसी वजह से इनके हौसले इतने बुलंद हैं कि स्टैंड में सवारी न भरकर चौराहों पर सवारी भरते हैं. बीच सड़क पर बस खड़ा करने से अक्सर ही जाम लगता है, जिससे आम जनता परेशान होती है. कई बार तो यह सवारी को देखते ही अचानक से ब्रेक लगा देते हैं जिससे पीछे आने वाले वाहन भिड़ जाते हैं और घायल हो जाते हैं. रोडवेज बसें पब्लिक की सहूलियत के लिए हैं, लेकिन जाम की मुख्य वजह होने के कारण यह नासूर बनती जा रही हैं.

हादसों का बना रहता डर

पुराना रोडवेज बस स्टैंड के आसपास कई स्कूल भी हैं. स्कूल्स की छुट्टी के समय रोडवेज बसों के सड़क पर खड़ा होने से जाम और भी विकराल हो जाता है. पुराना रोडवेज से पटेल चौक तक वाहनों की लंबी कतारें लगती हैं. रोडवेज बसों के चालकों के नियमों का पालन न करने और कोई ट्रैफिक मैनेजमेंट न होने से हादसों का डर भी बना रहता है. अगर कोई रोडवेज बस चालकों को बस साइड में करने को कहता है तो वह झगड़ा करने को उतारू हो जाते हैं.

सिर्फ कुछ दिन दिखा असर

शहर के मेन चौराहों पर लगने वाले जाम को लेकर छह माह पहले तत्कालीन एसपी ट्रैफिक ने आरएम रोडवेज को पत्र लिखा था, जिसमें उन्होंने रोडवेज ड्राइवरों के चौराहों पर या आसपास सवारी बैठाने पर उनकी सैलरी से जुर्माना वसूलने को कहा था. आरएम के द्वारा यह लागू होते ही कुछ दिन तो इसका असर दिखा, लेकिन बस ड्राइवर फिर से वही पुराने रवैये पर उतर आए हैं और कहीं भी बस खड़ी कर सवारी भर रहे हैं.

इन चौराहों पर खड़ी होती हैं बसें

-नॉवल्टी चौराहा, पटेल चौक, चौकी चौराहा, बरेली कॉलेज गेट कालीबाड़ी, चौपुला चौराहा और सैटेलाइट चौराहा के पास रोडवेज बसों के कारण जाम लगता है.

----------------

-चौराहों पर रोडवेज बस ड्राइवर सवारी नहीं ले सकता है. वह बस स्टैंड से ही सवारी बैठा सकता है. चौराहों पर बस खड़ी करने से जाम लग सकता है. इस बारे में सभी को निर्देश दिया जा चुका है. अब अगर कोई रूल्स फॉलो नहीं करेगा तो उस पर कार्रवाई होगी.

अमर नाथ मेहता, एसएम

----------

पब्लिक के दो वर्जन दिए जाएंगे:::::