- कुंभ मेले की तैयारी में जुटा रोडवेज प्रशासन

- नोडल अफसर ने बैठक कर दिया निर्देश

Gorakhpur@inext.co.in
GORAKHPUR : कुंभ मेले में हर साल गोरखपुर से भी लाखों श्रद्धालु इलाहाबाद जाकर संगम में आस्था की डुबकी लगाते हैं. श्रद्धालुओं को सहूलियत देने के लिए रोडवेज प्रशासन ने घर तक बस भेजने की योजना तैयार की है. इससे श्रद्धालुओं की परेशानी तो कम होगी ही साथ ही गोरखपुर रोडवेज पर एक साथ ज्यादा भीड़ भी इकट्ठा नहीं होगी. आरएम डीवी सिंह ने बताया कि गोरखपुर रीजन के सभी आठ डिपो के दायरे में पड़ने वाले इलाके के लोग रोडवेज की बस को बुक करा सकते हैं. हां ये जरूरी होगी कि श्रद्धालुओं की संख्या 40 से कम न हो. इसके बाद उनके बताए स्थान पर ही रोडवेज की बस समय से पहुंच जाएगी. इसके लिए उन्हें किराए के अलावा अलग से कोई कीमत भी नहीं चुकानी होगी.

नोडल अफसर ने बनाई रणनीति
इलाहाबाद में लगने वाले कुंभ मेले को लेकर शासन से लेकर जिले स्तर के सभी अधिकारी लग गए हैं. इसको लेकर बुधवार को परिवहन निगम गोरखपुर के नोडल अफसर जय दीप वर्मा ने आरएम और सभी आठ डिपो के एआरएम के साथ मीटिंग कर कुंभ मेले की रणनीति तैयार की. जिसमें कुंभ मेले में जाने के लिए श्रद्धालुओं को कोई परेशानी न हो इसको ध्यान में रखकर रणनीति तैयार की गई.

शिविर लगाकर ड्राइवर की भर्ती
नोडल अफसर जयदीप वर्मा ने ड्राइवरों की कमी को पूरा करने के लिए गांव-गांव में ब्लॉक स्तर पर शिविर लगाने के लिए कहा. इसे हर हाल में जल्द से जल्द करने को कहा है. इसी के साथ ही रीजन की मेले में जाने वाली सभी बसों को दुरूस्त कराने से लेकर उनपर ट्रेंड ड्राइवर और कंडक्टर की तैनाती करने को कहा है.

नई बसें भी होंगी शामिल
आरएम ने बताया कि कुंभ मेले के लिए नई बसें भी आ रहीं हैं. जिसमें से 20 गोरखपुर पहुंच चुकी हैं और बहुत जल्द 35 और बसें भी गोरखपुर रीजन में आ जाएंगी. इसके साथ ही अगल-बगल के रीजन से भी 500 बसें मेले के लिए आ रही हैं. वहीं गोरखपुर रीजन से 450 बसें कुंभ मेले में लगाई जाएंगी.

कर्मचारियों ने सौंपा ज्ञापन
राज्य कर्मचारियों संयुक्त परिषद के विनोद तिवारी की अगुवाई मे कर्मचारियों ने नोडल अफसर जय दीप वर्मा को ज्ञापन सौंपा. ज्ञापन के माध्यम से कर्मचारियों की कमी को दूर करने की गुजारिश की. नोडल अफसर ने समस्याओं को जल्द से जल्द दूर कराने का आश्वासन दिया.

कुंभ मेले को लेकर मीटिंग की गई थी. मेले में श्रद्धालुओं को कोई परेशानी न हो इसके लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ी जाएगी.

जय दीप वर्मा, नोडल अफसर