agra@inext.co.in
AGRA. फीरोजाबाद रोड पर एक ऐसा गैंग सक्रिए हो गया है जो किसी न किसी बहाने से लोगों को गुमराह कर लूट करता है. एक जुलाई को दुर्घटना करने की बात बोल कर आयशर कैंटर सवार दम्पत्ति के 32 हजार रुपये गायब कर दिए. शुक्रवार को नोएडा से लौट रहे दम्पत्ति से स्विफ्ट सवार बदमाशों ने एक लाख रुपये पार कर लिए. दम्पत्ति बेटे की फीस जमा करने के लिए गहने बेच कर रुपए जमा किए थे.

केस-1

फीस जमा करने गए थे दम्पत्ति
फीरोजाबाद निवासी ब्रजेश के बेटे का नोएडा स्थित कॉलेज में एडमिशन हुआ. घर की आर्थिक स्थित अच्छी नहीं है. पत्‍‌नी ममता ने बेटे की फीस के लिए अपने गहने बेच कर एक लाख रुपए जमा किए. दोनो नोयडा गए लेकिन किसी कारण के चलते फीस जमा न हो सकी. दोनों रोडबेज से वापस लौटे. दोनों कुबेरपुर चौराहे से फीरोजाबाद जाने के लिए उतरे.

एक लाख रुपये कर दिए पार
कुछ देर में वहां पर एक सफेद रंग की स्विफ्ट कार आई. चालक ने फीरोजाबाद जाने के लिए आवाज दी. दम्पत्ति उसमें बैठ गए. थोड़ी दूर जाकर चालक ने गाड़ी रोक दी और पेट्रोल खत्म होने का बहाना किया. दम्पत्ति को जबरन उतार दिया और तेजी से कार फीरोजाबाद की तरफ दौड़ा दी. ब्रजेश की नजर पेंट पर गई तो देखा कि शातिर बदमाशों ने पेंट पर कट मार कर जेब काट ली. जमा पूंजी जाते ही दम्पत्ति सड़क पर फूट-फूट कर रोने लगे.

अब कैसे होगा बेटे का एडमिशन
मौके पर पुलिस पहुंच गई. चेकिंग भी कराई लेकिन बदमाश हाथ नहीं आ सके. ममता रो-रोकर यही बोल रही थी कि अब उसके बच्चे की फीस कैसे जमा होगी, वह कैसे पढ़ पाएगा. उसने गहने बेच कर रुपए जमा किए थे. उसका सब कुछ बर्बाद हो गया. मौके पर एसपी ग्रामीण डॉ. अखिलेश नरायण पहुंच गए.

केस-2
इटावा निवासी ज्ञान सिंह सफेद स्विफ्ट सवार बदमाशों ने 32000 रुपए लूट लिए. मामला झरना नाले के पास का है. आगरा ट्रांसपोर्ट नगर से इटावा सफेद स्विफ्ट कार में जा रहे ज्ञान सिंह को एत्मादपुर क्षरना नाले पर टायर पंचर हो जाने की बोल कर चालक ने नीचे उतार दिया. नीचे उतरते ही गाड़ी दौड़ा दी. नीचे उतरे ज्ञान सिंह ने जेब पर हाथ डाला तो 32 हजार रुपए गायब थे. पीडि़त ने पुलिस को सूचना दी. लेकिन जेब पर हाथ साफ करने वाला गैंग पुलिस के हाथ नहीं लग सका.

केस-3
आयशर सवार दम्पत्ति के रुपये गायब किए
चंदन नगर, कालिंदी विहार निवासी राजपाल सिंह आयशर कैंटर चलाते हैं. एक महीने पहले फीरोजाबाद निवासी बहन नरायणी की मौत हुई थी. 1 जुलाई को वह आयशर से पत्‍‌नी शांति के साथ बहन के यहां पर जा रहे थे. रात में 9 बजे दम्पत्ति चले. झरना नाले के पास चार युवकों ने गाड़ी रुकवा ली. आरोप लगाया कि तुम शाहदरा पेट्रोल पम्प के पास दुर्घटना करके आए हो. एक युवक ने चालक विंडो पर चढ़ कर राजपाल को थप्पड़ मारना शुरु कर दिया.

पुलिस और युवकों ने पीटा
अनहोनी की आशंका पर राजपाल ने गाड़ी दौड़ा दी. छलेसर चौकी से पहले पीएनसी कोल्ड के पास से उसने आगरा के लिए यू टर्न ले लिया. बीस मीटर भी गाड़ी आगे नहीं बढ़ी होगी कि दो पुलिस कर्मियों ने अपनी बाइक आगे लगा दी. दो बाइकों पर चार युवक भी वहां पर आ गए. आरोप है कि पुलिस ने पत्‍‌नी को वहीं उतार दिया और राजपाल के साथ डंडो से मारपीट की. उसे गाड़ी में डाल कर छलेसर चोकी ले गए. रात भर चौकी में बैठाए रखा.

रुपये हो गए गायब
राजपाल पूछते रहे कि किसका एक्सीडेंट हुआ है. उसके रिश्तेदारों ने एत्मादउद्दौला थाने के कई हॉस्पिटल छान लिए लेकिन घायल नहीं मिला. अगले दिन दोपहर में उसे छोड़ा. राजपाल के मुताबिक जिन लोगों ने आरोप लगाया वह भी आ गए और उन्होने समझौता लिख कर थाने पर दिया जिसमें राजपाल ने भी साइन किए लेकिन वह समझ नहीं पाया कि दुर्घटना किसके साथ हुई. उसने गाड़ी में रखी पेंट चेक कि तो होश उड़ गए. पेंट से 32 हजार रुपये गायब थे.

मामले में की शिकायत
पीडि़त के मुताबिक उसने एसएसपी कार्यालय मामले की शिकायत की लेकिन एसएसपी नहीं मिले. उसे थाना एत्मादपुर भेज दिया इसके बाद सीओ एत्मादपुर से शिकायत की. जांच में निकल कर आया कि गाड़ी में दो पुलिस कर्मी और आरोप लगाने वाले युवक चढ़े थे अब उनमें से किसने रुपये निकाल ये क्लीयर नहीं हुआ. तभी से पीडि़त परेशान है. वह पुलिस के चक्कर लगा रहा है.