-टॉप कैरेट ज्वैलर्स लूटकांड में लुटेरों की तलाश में भटक रही पुलिस

-पुलिस को सहयोग न करने पर एसएसपी ने जेल सुपरिंटेंडेंट को किया फोन

BAREILLY: टॉप कैरेट ज्वैलर्स लूटकांड का पुलिस 11वें दिन भी खुलासा नहीं कर सकी है. पुलिस की जांच अब पीलीभीत डिस्ट्रिक्ट के बीसलपुर कस्बे व आसपास के बॉर्डर के जिलों के एरिया में जाकर रुक गई है. पुलिस की कई टीमों ने इसी एरिया में डेरा जमा दिया है. वहीं दूसरी ओर बरेली जेल प्रशासन लूटकांड में पुलिस का सहयोग नहीं कर रहा है. वेडनसडे को इसको लेकर एसएसपी ने जेल अधीक्षक को फोन किया, तब जाकर कहीं पुलिस टीम को जेल में एंट्री मिल सकी. हालांकि पुलिस कुछ नए क्लू मिलने का दावा कर रही है.

लिंक रास्ते से भागे हैं बदमाश

टॉप कैरेट ज्वैलर्स लूटकांड में पुलिस के हाथ बस बदमाशों की सीसीटीवी फुटेज की हाथ आयी हैं. पुलिस ने बरेली से लेकर बीसलपुर तक की फुटेज खंगाल डालीं. जिसमें आते-जाते हुए बदमाशों की फुटेज है. पुलिस को लास्ट फुटेज बीसलपुर के पीलीभीत रोड की मिली थी, जिसमें बदमाश आते नजर आए थे. इससे साफ हो गया है िक बदमाश इसी एरिया के रहने वाले हैं. बदमाश वापसी में बड़ा बाईपास के आगे बीसलपुर रोड से कुआं टांडा के पास से नजर नहीं आए थे. इस रास्ते से लुटेरे लिंक रोड के जरिए चुर्रा चौकी के आगे जाकर निकल सकते हैं और फिर बीसलपुर से पहले ही लिंक रास्ते से शाहजहांपुर जा सकते हैं. इसी तरह दूसरे रास्ते से बीसलपुर के आगे बंडा, ,खुटार होते हुए लखीमपुर खीरी डिस्ट्रिक्ट में जा सकते हैं. इसके अलावा बीसलपुर के आगे पीलीभीत डिस्ट्रिक्ट के अन्य एरिया में जा सकते हैं.

जेल पुलिस नहीं कर रही सहयोग

लूटकांड के खुलासे के लिए पुलिस सीसीटीवी फुटेज के जरिए बदमाशों के चेहरों का मिलान कर रही है. पुलिस ने शाहजहांपुर और पीलीभीत की जेलों में भी जाकर फुटेज की पहचान कराई लेकिन बरेली जेल प्रशासन पुलिस का सहयोग नहीं कर रही है. बरेली पुलिस की टीम पिछले दो दिनों से डिस्ट्रिक्ट जेल में जा रही थी लेकिन उन्हें एंट्री ही नहीं दी जा रही थी. वेडनसडे को जब एसएसपी कलानिधि नैथानी को इस बारे में पता चला तो उन्होंने जेल सुपरिंटेंडेंट को फोन किया. इस पर जेल सुपरिंटेंडेंट ने जानकारी होने से इनकार किया लेकिन चंद मिनट में पुलिस को एंट्री मिल गई.

---------------------------

लिफ्ट देकर लूट में भी खाली हाथ पुलिस

सेटेलाइट बस अड्डा के पास से ही ट्यूजडे को दिलवर को कार सवारों ने पता पूछने के बाद लिफ्ट देकर चेकिंग के बहाने 32 हजार रुपए लूट लिए थे. इस लूटकांड में भी पुलिस खाली हाथ है. पुलिस सिर्फ सीसीटीवी फुटेज पर ही टिकी है. पुलिस ने नकटिया चौकी व सेटेलाइट चौकी के अलावा अन्य सीसीटीवी फुटेज भी देखीं, लेकिन उनमें कार तो जाते दिख रही है लेकिन नंबर नजर नहीं आया है.