-हत्याकांड के बाद से फरार चल रहा था आरोपी, 25 हजार रुपये का इनाम था घोषित

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW : इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के पीसीबी हॉस्टल में हुई रोहित शुक्ला की हत्या के बाद से फरार चल रहे आरोपी अभिषेक यादव उर्फ नवनीत को गुरुवार को एसटीएफ ने आखिरकार अरेस्ट कर लिया। अभिषेक पर 25 हजार रुपये का ईनाम घोषित था। पूछताछ में उसने कुबूल किया कि यूनिवर्सिटी कैंपस में बन रही स्टूडेंट एक्टिविटी सेंटर की बिल्डिंग के निर्माण में वसूली को लेकर आदर्श त्रिपाठी और रोहित शुक्ला में ठन गई थी। इसी को लेकर पीसीबी हॉस्टल में गोलीबारी हुई जिसमें रोहित मारा गया।

पुलिस को ढूंढे नहीं मिल रहा था

एसएसपी एसटीएफ अभिषेक सिंह के मुताबिक, बीती 15 अप्रैल को पीसीबी हॉस्टल में लॉ स्टूडेंट रहे रोहित शुक्ला की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। रोहित बारा थाना क्षेत्र के नीबी लोहगरा का रहने वाला था। हत्याकांड के मुख्य आरोपी बाराबंकी के आदर्श त्रिपाठी समेत छह छात्रों को नामजद कर मुकदमा दर्ज किया गया था। मामले में फरार आजमगढ़ के दीदारगंज का निवासी अभिषेक यादव उर्फ नवनीत पुलिस को ढूंढे नहीं मिल रहा था। जिसके चलते उस पर 25 हजार रुपये इनाम घोषित किया गया था। एसटीएफ के एएसपी नीरज पांडेय, सीओ नवेन्दु कुमार के निर्देशन में टीमें दबिश दे रही थीं।

ठेके को लेकर हुआ था विवाद

गुरुवार को इंस्पेक्टर केशव चंद्र राय और अतुल सिंह ने उसे सिविल लाइंस बस अड्डे से दबोच लिया। वह जिले से बाहर जाने की फिराक में था। सिविल लाइंस थाने में पूछताछ उसने बताया कि बिल्डिंग के निर्माण के ठेके को लेकर आदर्श और रोहित में विवाद हो गया था। जेल में बंद अभिषेक माइकल ने दोनों को जेल में बुलाकर समझाया लेकिन हॉस्टल पहुंचने पर फिर झगड़ा हो गया। दोनों तरफ से गोली चली जिसमें रोहित की मौत हो गई। मामले में आदर्श त्रिपाठी ने अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया था, जिसके बाद उसे जेल भेज दिया गया था। वहीं, 25 हजार के इनामी सौरभ विश्वकर्मा को कुछ दिन पहले पुलिस ने जेल भेजा था।