नई दिल्ली (आईएएनएस)। उत्तरप्रदेश और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रहे एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर की मौत सामान्य नहीं थी। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में मौत का कारण 'अप्राकृतिक' बताया गया है। सोर्सेज के मुताबिक, मौत की वजह दम घुटने से होना बताई गई है। इसके बाद मामले की जांच दिल्ली क्राइम ब्रांच को सौंपी गई। क्राइम ब्रांच के एक अधिकारी ने आईएएनएस को बताया, 'रोहित शेखर तिवारी और उनके भाई सिद्धार्थ के बीच संपत्ति विवाद सहित सभी संभावित कोणों की जांच की जा रही है। यह पाया गया है कि परिवार के पास उत्तराखंड और दिल्ली में करोड़ों रुपये की संपत्ति है।' 16 अप्रैल को रोहित को साकेत स्थित मैक्स अस्पताल लाया गया था, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया था। रोहित शेखर तिवारी ने उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय नारायण दत्त तिवारी के खिलाफ पितृत्व मुकदमा जीता था।

घरवालों से सघन पूछताछ

पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चलता है कि रोहित शेखर तिवारी की हत्या संभवतः एक पिलर जैसी चीज से की गई है। रिपोर्ट सामने आने के साथ ही फॉरेंसिक व क्राइम ब्रांच की टीमें रोहित शेखर के घर पर पहुंच गईं। वहां उनकी मां उज्ज्वला तिवारी, भाई सिद्धार्थ, रोहित की पत्नी अपूर्वा और तीन नौकरों से पूछताछ की गई। पूछताछ के दौरान सभी के बयान अलग पाए गए। वहां पर सीएफएसएल की टीम भी बुलाई गई है। साथ ही मौका-ए-वारदात पर छानबीन की गई। क्राइम ब्रांच रोहित के घर में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाल रही है। रिपोट्र्स के अनुसार, रोहित के घर में 7 सीसीटीवी कैमरे लगे हैं, जिनमें से 2 काम नहीं कर रहे थे। केस की जांच-पड़ताल भी अब हत्या के एंगल से की जा रही है। अधिकारी ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक रोहित तिवारी की हत्या दोपहर 12 से 2 बजे के बीच हुई।

कॉल डिटेल खंगाल रही पुलिस

अधिकारी ने कहा, 'हम परिवार के सदस्यों की कॉल डिटेल खगालने की कोशिश कर रहे हैं। तिवारी के परिवार और नौकरों की गतिविधि हमें इस मामले में किसी महत्वपूर्ण पहलु तक पहुंचा सकती हैं। फिलहाल हम यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि रोहित की मां मैक्स अस्पताल में घर से अपने इलाज के लिए निकल गईं, इसके बाद मंगलवार को घर में सुबह 10 से शाम 4 बजे तक क्या हुआ।' जांच के मुताबिक, एक नौकर रोहित को नाश्ता देने के लिए उनके कमरे में गया था लेकिन तब उसने उन्हें सोते हुए पाया और उसे वहां कुछ भी अप्राकृतिक नहीं लगा। बाद में वही नौकर शाम 4 बजे फिर से उनके रूम में गया तो देखा कि रोहित बेहोशी की हालत में हैं और उनके नाक से खून बह रहा है। रोहित ने 2007 और पिछले साल दो बाईपास सर्जरी कराई थी। करीब एक साल से उनका इलाज चल रहा था। क्राइम ब्रांच की टीम ने उसके कमरे में रखी कई दवाओं को पाया। उनकी पत्नी अपूर्वा और भाई सिद्धार्थ संदिग्ध हैं।

रोहित की मां ने कहा, किसी पर संदेह नही
पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट सामने आने के बाद भी रोहित की मां उज्ज्वला ने किसी पर हत्या का संदेह नहीं जताया है। ने कहा था कि रोहित की नाक से खून निकल रहा था। इस बात की जानकारी नौकर ने उसकी मां उ वला तिवारी को दी थी। रोहितकी मां घर पर नहीं थीं। वह चेकअपके लिए अस्पताल गई हुई थीं। उस वक्त भी उन्होंने अपने बेटे की मौत स्वाभाविक बताया था।

Crime News inextlive from Crime News Desk