नर्इ दिल्ली (पीटीआर्इ)। महाराष्ट्र पुलिस ने पांच मानवाधिकार कार्यकर्ताआें को माआेवदियों से सलिंप्तता होने के शक में गिरफ्तार किया है। के इस कदम का विरोध हो रहा है। जानी-मानी इतिहासकार रोमिला थापर समेत पांच सामाजिक कार्यकर्ताआें ने विरोध करते हुए सु्प्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। उन्होंने चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता में पांच जजों की बेंच के समक्ष कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी के खिलाफ याचिका पेश की। कोर्ट ने स्वीकारते हुए इस मामले में तत्काल सुनवार्इ का आदेश दिया है। अब शाम 3:45 बजे इस पर सुनवार्इ होगी।

सभी कार्यकर्ताओं को रिहा किए जानें की मांग
वरिष्ठ वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने याचिका में उल्लेख किया गया है कि रोमिला थापर व अन्य अधिकार कार्यकर्ताओं की मांग है कि भीमा-कोरेगांव मामले में छापे मार कर गिरफ्तार किए गए सभी कार्यकर्ताओं को रिहा किया जाए। उन्होंने यह भी अपील की है कि मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी के संबंध में स्वतंत्र जांच के निर्देश दिए जाए। बता दें पिछले साल 31 दिसंबर को एल्गार परिषद के एक कार्यक्रम के बाद पुणे के पास कोरेगांव - भीमा गांव में दलितों और उच्च जाति के पेशवाओं के बीच हिंसा हुर्इ थी। एेेसे में इस घटना की जांच के तहत ये छापे मारे गए हैं।

200 साल पुराने संघर्ष की वजह से महाराष्ट्र में कर्फ्यू जैसे हालात, यहां आसानी से समझें पूरा मामला

आरक्षण की मांग पर महाराष्ट्र बंद : सरकार ने कसी कमर, मराठा आंदोलनकारियों पर एेसे रखेगी नजर

National News inextlive from India News Desk