- बहुत कोशिश की, लेकिन कर्ज से उबर नहीं सके

आगरा. रोमसंस कंपनी समूह के पूर्व डायरेक्टर ने कर्ज से उबरने की काफी कोशिश की, लेकिन सफल नहीं हो सके. बैंक के अलावा बाजार से भी कर्ज ले रखा था. अछनेरा के कुकथला में मिनरल वाटर का प्लांट खोला था. उसमें भी घाटा हो गया. इसके चलते रजनीश खन्ना काफी तनाव में थे. न्यू आगरा के निर्भय नगर में विभव अपार्टमेंट के फ्लैट संख्या 101 में रहने वाले रजनीश खन्ना सर्जिकल उपकरण बनाने वाली रोमसंस इंडस्ट्रीज के निदेशकों में शामिल रहे थे. आपको बता दें कि रोमसंस हेल्थकेयर और मेडीकल डिवाइस बनाती है.

पुलिस ने कब्जे में ली रिवॉल्वर

पुलिस ने कारोबारी की लाइसेंसी रिवाल्वर को अपने कब्जे में ले लिया है. पत्‍‌नी सुचेता ने पुलिस को बताया कि वे मानसिक तनाव में थे, लेकिन इसका अहसास परिजनों को नहीं होने दिया. अपनी जश्ने जिन्दगी मनाने के बाद इतना बड़ा कदम उठा लेंगे. इसकी किसी को जानकारी नहीं थी. अपने जन्मदिन के जश्न में बेटी श्रृद्धा और दामाद राजपाल को भी दिल्ली से बुलाकर शामिल कर लिया. किसी को इस बात का इल्म भी नहीं था, कि सुबह तक ये जश्न मातम में बदल जाएगा. कोई भी उनका दोस्त दुखी मन से उसके पास पहुंचता था, तो उसे ढांढंस बधाते थे हंसकर समय गुजारने की सलाह देते थे.

महिला श्रमिक फूट-फूटकर रोई

बताया जाता है कि कुछ वर्ष पहले ही वे निर्भय नगर विभव अपार्टमेंट में रहने आए थे. 12 मार्च को अपना जन्मदिन मनाया. 13 मार्च को सुबह जिंदगी का सफर समाप्त कर डाला. रजनीश की मौत की खबर सुनर उनकी कोठी पर तमाम मित्र रिश्तेदारों की भीड़ जुट गयी. बताया जाता है कि रोमसंस कंपनी की सी-1 ब्रांच की महिला श्रमिक मौत की सूचना पर फूट-फूट कर रोने लगीं. क्योंकि जब रजनीश को कंपनी से निकाला गया था, तब उन सभी लेबर को भी हटाया जा रहा था. उनके कहने पर ही उन्हें महिलाओं को कंपनी में रखा था.