- बाल-बाल बचे कर्मचारी, दूसरे भवन में दफ्तर शिफ्ट करने की उठी मांग

GORAKHPUR: बक्शीपुर बिजली सब स्टेशन की जर्जर बिल्डिंग आखिर हादसे की वजह बन ही गई. परीक्षण खंड में सोमवार दोपहर छत का हिस्सा टूट कर गिर गया. गनीमत रही कि जहां प्लास्टर गिरा वहां कोई कर्मचारी नहीं था. अचानक प्लास्टर गिरने की आवाज से अफरा-तफरी मच गई. कर्मचारी बाहर भाग निकले. इस बीच काफी देर तक काम प्रभावित रहा.

गंभीर नहीं हुए अधिकारी

बक्शीपुर बिजली सब स्टेशन की बिल्डिंग काफी जर्जर हो चुकी है. बारिश में छत से पानी टपकना आम है. दीवारें भी जर्जर हो चुकी हैं. खुद को बचाकर कर्मचारी किसी तरह काम करते हैं. पिछले हफ्ते हुई बारिश में यहां रखे प्री-पेड मीटरों में पानी घुस गया था. दैनिक जागरण आई नेक्स्ट ने एक दिन पहले ही यहां की जर्जर बिल्डिंग की स्थिति को प्रमुखता से प्रकाशित किया था. सोमवार को हादसा होने के बाद भी बिजली निगम के अधिकारी इसे गंभीरता से नहीं ले रहे हैं. कर्मचारियों का कहना है कि बिल्डिंग में इतनी सीलन हो चुकी है कि दीवारों में करंट आ जाता है. राज्य विद्युत परिषद प्राविधिक कर्मचारी संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष बृजेश त्रिपाठी ने बताया कि कहा कि यहां की स्थिति की जानकारी अधिकारियों को काफी पहले दी जा चुकी है लेकिन मरम्मत के लिए कुछ नहीं किया गया. उन्होंने कहा कि जल्द ही दूसरे भवन की व्यवस्था न की गई तो आंदोलन होगा.

वर्जन

बक्शीपुर सब स्टेशन काफी जर्जर हो चुका है. कुछ भवनों को गिराकर नया निर्माण कराने की कवायद शुरू हो चुकी है. चीफ इंजीनियर को प्रस्ताव भेजा गया है. वहां से बजट की स्वीकृति मिलते ही अलग भवन का काम शुरू कराया जाएगा.

- जेपी यादव, अधिशासी अभियंता, बक्शीपुर