भारी वाहनों की नहीं होगी शहर में एंट्री

बैरियर लगाकर रोका जाएगा ट्रैफिक

Meerut. ईद के दिन शहर में सुबह पांच से शाम बजे तक रूट डायवर्जन रहेगा. इस दौरान शहर में भारी वाहनों की एंट्री पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध रहेगा. कई स्थानों पर बैरियर व अस्थाई चेक पोस्ट बनाकर वाहनों को दूसरे रूट की तरफ डायवर्ट किया जाएगा. यह जानकारी एसपी ट्रैफिक संजीव वाजपेइर्1 ने दी.

ऐसा रहेगा डायवर्जन

1- दिल्ली व गाजियाबाद से आने वाले वाहन जिनको मुजफ्फरनगर व रूड़की की ओर जाना है. ऐसे वाहन परतापुर तिराहे से बाईपास होते हुए शोभापुर मोदीपुरम बाईपास से जाएंगे.

2- मुजफ्फरनगर की ओर से आने वाले यातायात जिसे दिल्ली व गाजियाबाद जाना है वह मोदीपुरम बाईपास व शोभापुर से परतापुर बाईपास तिराहे होते हुए गाजियाबाद से दिल्ली की तरफ निकाले जाएंगे.

3-दिल्ली व बागपत की तरफ से आने वाली रोडवेज बसे जिन्हें भैंसाली बस अड्डे पर आना है उन्हें परतापुर बाईपास से सरधना फ्लाईओवर से मुड़कर जा सकेंगे.

4- कंकर खेड़ा रेलवे फ्लाईओवर होते हुए जीरोमाइल चौराहे से रजबन पेट्रोल पंप, नैंसी चौराहे, औघड़नाथ मंदिर,सदर थाना होते हुए भैंसाली रोडवेज पर आ सकेंगी.

5-मुजफ्फरनगर से आने वाला यातायात जिन्हें मुरादाबाद जाना है उसे जीरोमाइल चौराहे से कमिश्नर आवास चौराहा जेल चुंगी होते हुए यूनीवर्सिटी से गढ़ रोड पर जाने दिया जाएगा.

6-दिल्ली चुंगी शारदा रोड ब्रहृापुरी चौराहे से भूमिया पुल की तरफ किसी भी वाहन को जाने नहीं दिया जाएगा.

7-हापुड़ अड्डे गोलाकुआं पर वाहन नहीं जाने दिए जाएगा.

8-हापुड़ रोड से आने वाले सभी प्रकार के यातायात को एल- ब्लाक शास्त्री नगर से आगे हापुड़ स्टैंड की तरफ जाने नहीं दिया जाएगा.

8-बागपत स्टैंड रेलवे रोड ईदगाह रोड प्रतिबंधित रहेगा.

9-गढ़ रोड से आने वाला यातायात गांधी आश्रम चौराहे से हापुड स्टैंड चौराहों की तरफ से नहीं जाने दिया जाएगा.

10-ईव्ज चौराहा से हापुड़ अड्डे चौराहों की ओर व घंटाघर से रेलवे रोड की ओर तथा केसरगंज की ओर सभी प्रकार के वाहन प्रतिबंधित किया जाएगें.

11-जेएनएनआरयूएम व प्राइवेट सिटी बसें गांधी आश्रम, हंस चौराहा, सर्किंट हाउस, कमिश्नर आवास चौराहे से बाउंड़ी रोड होकर जीरोमाइल चौराहे तक आएगी.

---------------

हेडिंग- इंडोनेशिया और तुर्की की टोपियों की डिमांड

10 रुपये से लेकर 2500 रुपये तक की टोपियां बाजार में मौजूद

ईद के दिन नमाज के दौरान मस्जिद में टोपी रखने का विशेष महत्व

ईद-उल-फितर की तैयारियों को लेकर बाजार में इन दिनों खास रौनक दिखाई दे रही है. कपड़े, गहने, खाने-पीने के सामान से बाजार गुलजार है. साथ ही देसी-विदेशी नमाजी टोपी का भी खासा ट्रेंड बाजार में नजर आ रहा है.

विदेशियों टोपी की डिमांड

इस साल बाजार में देसी टोपियों के साथ ही विदेशी टोपियां भी खूब बिक रही है. इसमें इंडोनेशिया, तुर्की टोपी के अलावा हैवी रेशम वर्क, जरवी, मोती, चिमकी, मखमली टोपियां लोगों की खास पसंद बनी हुई है. आबूलेन, वैली बाजार, शारदा रोड़, घंटाघर बाजार, भगत सिंह मार्केट में बरखादी, अलिफ, फारूक, आजम, अल - फदीला, सना, जन्नत, पाकीजा, जीनत, उमर, सुन्नत टोपियां भी काफी डिमांड में है. इसके अलावा समरदाना, मोती, तुर्की, स्टार, लावर फोम, दमिश्क टोपियां भी चलन में हैं. टोपियां की बढ़ती मांग को देखकर बांग्लादेश और अरब देशों से टोपियां इंपोर्ट की जा रही है.

बैंस और प्लास्टिक की टोपी

जीनत क्रिएशंस के संचालक बताते हैं कि ईद के दिन मस्जिद में टोपी रखने से सबाब मिलता है. इसके लिए बाजार में इस बार बैंस और प्लास्टिक की टोपी काफी पसंद की जा रही है. यह सस्ती व हल्की हैं. इसके अलावा मार्केट में व्हाइट के साथ कलरफुल टोपियों की खास वैराइटी मौजूद हैं.

ढाई हजार तक की टोपी

इन दिनों बाजार में 10 रुपये से लेकर ढाई हजार रुपये तक की टोपियां मौजूद हैं. बजट और स्टाइल के हिसाब से लोग टोपी खरीद रहे हैं. कलरफुल और कढ़ाई वाली टोपियां काफी स्टाइलिश हैं. खास कपड़ों या लेदर से बनी स्पेशल कढ़ाई वाली टोपी भी बाजार में मौजूद हैं.

ईद वाले दिन नमाज के दौरान मस्जिद में टोपी रखने का काफी महत्व हैं. इस दिन के लिए हम विशेष टोपियां खरीदते हैं.

जीशान

हमारे यहां टोपी का विशेष महत्व होता है. अब तो बाजार में कई तरह की डिजाइनर टोपियां मिलती हैं.

हारून

फैशन के चलते डिजाइनर टोपियां अब काफी प्रचलन में आ गई हैं. हम लोग भी स्टाइलिश और डिजाइनर टोपी खरीदते हैं. यह लुक बढ़ाती है.

शोएब