-कॉलेज मैनेजमेंट कमेटी के चुनाव के प्रेक्षक बने प्रो. एके जेटली के बिगड़े बोल

-वायरल ऑडियो में कमेटी के मेंबरों को बताया फर्जी, कहा बायलॉज में चेंज कर किया अप्रूव

बरेली:

बरेली कॉलेज में मैनेजमेंट कमेटी का चुनाव कराने के लिए प्रेक्षक बनाए गए आरयू के प्रो. एके जेटली का वेडनसडे को एक ऑडियो वायरल हुआ है. वायरल ऑडियो में वह होने वाले मैनेजमेंट कमेटी के चुनाव की चर्चा करते हुए पूर्व रजिस्ट्रार पर ही रुपयों के लेनदेन का आरोप लगा रहे हैं, जिसके बाद से हड़कंप मच गया है.

कौन बुलाएगा मीटिंग

वायरल ऑडियो में प्रो. जेटली कह रहे हैं कि चुनाव नहीं होने का मेन कारण यह है कि क्राइटेरिया के हिसाब से 40 मेंबर नहीं हैं. चुनाव कराने के लिए पहले आप मेंबर बनाओ. मेंबर बनाने को मीटिंग बुलानी होगी, लेकिन मीटिंग बुलाएगा कौन. इसके लिए पहले मेंबर बनाओगे, जो लोग इलेक्ट हो जाएंगे उनकी सूचना यूनिवर्सिटी को भेजोगे और शासन से अपू्रवल होने के बाद चुनाव होगा, लेकिन इसमें बहुत समय लगेगा.

बिना अप्रूवल के बनाए थे मेंबर

पहले चुनाव में जो 14 मेंबर बनाए गए थे उनका शासन से अप्रूवल नहीं कराया. वह सभी फर्जी हैं. बायलॉज में करक्शन कर सबको वैध कर दिया. बोर्ड ऑफ कंट्रोल और मैनेजमेंट कमेटी ने सबको बेबकूफ बनाया अपनी मनमानी चलाते रहे जो भी प्रशासन आया उसको पता ही नहीं. 2014 के इलेक्शन में हुआ था उसकी कमेटी भी इलेक्शन के बाद आरयू से अप्रूब्ड कराई, लेकिन शासन से नहीं कराई. जुलाई 2014 में इलेक्शन हुआ तो एके सिंह ने इसे अप्रूव नहंी किया. फरवरी 2015 में अप्रूवल हुआ क्योंकि उन्होंने बायलॉज में परिवर्तन किया. उन्होंने भी पैसा लिया होगा लेकिन अपने को बचा ले गए. बायलॉज चेंज कर गड़बड़ किया, अप्रूवल देना ही नहीं चाहिए. दिनेश जौहरी के बारे में भी अपशब्द बोले हैं. कहा कि वह खुद ही निकाल बाहर कर दिये गए थे.

सरकार पर किसका दबाव

वायरल ऑडियों में जेटली कह रहे हैं, कि गवमर्ेंट पर किसका दवाब. जवाब में साथ में बैठा व्यक्ति कहता है कि होंगे कोई नेता मंत्री तो जेटली कहते हैं कि यह जो पॉलिटीशियन हैं सब एक ही हैं.

मैं तो बातचीत कर रहा था, लेकिन किसी ने रिकार्ड कर ली है तो क्या. मैनें तो वही बोला जो अब तक पेपरों में छपा है. मैंने तो कुछ गलत नहीं बोला.

प्रो. एके जेटली आरयू