- धनौली के लिए मुआवजा राशि बढ़ाने की कर रहे हैं मांग

- जमीन के बदले जमीन भी लेने को नहीं हैं किसान तैयार

आगरा. सिविल टर्मिनल का कार्य आगे नहीं बढ़ पा रहा है. शेष भूमि का अधिग्रहण नहीं हो पा रहा है. वहीं रनवे विस्तार के लिए भी जमीन ली जानी है. तहसील प्रशासन की लाख कोशिशों के बाद भी किसानों से जमीन नहीं ले पा रहे हैं, जिसके कारण बाउंड्री का कार्य अधूरा पड़ा है. किसान किसी भी स्थिति में रनवे के लिए जमीन देने के लिए तैयार नहीं हैं.

सपा शासन में शुरू हुआ था कार्य

सिविल टर्मिनल का कार्य सपा शासन में शुरू हुआ था. कुछ समय बाद सत्ता परिवर्तन हो गई. भाजपा की सरकार आ गई. इसके बाद सिविल टर्मिनल का कार्य ठंडे बस्ते में पड़ गया. अंतरराष्ट्रीय हवाई अडडे की बात शुरू हो गई. आगरा से अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा छिन गया और जेवर चला गया. इसके बाद शासन ने आगरा को सिविल टर्मिनल का लॉलीपॉप देने के लिए बजट स्वीकृत कर दिया गया. जो जमीन सपा शासन में अधिग्रहीत नहीं हो सकी थी, उनके अधिग्रहण का कार्य शुरू हो गया. लेकिन धनौली में जमीन का मामला फंस गया है. धनौली के किसान किसी भी कीमत पर जमीन देने के लिए तैयार नहीं हो रहे हैं.

कई जगह दिखाई थी जमीन

जमीन के बदले जमीन देने के लिए तहसील प्रशासन ने किसानों के सामने प्रस्ताव रखा था. ककुआ बाद की ओर किसानों को ले जाकर जमीन दिखाई थी, लेकिन किसानों को जमीन पसंद नहीं आई. किसानों ने जमीन लेने से इनकार कर दिया. इसके बाद किसानों मुआवजा राशि बढ़ाए जाने की मांग रखी, इस प्रस्ताव को प्रशासन ने यह कहते हुए इनकार कर दिया कि अगर इन्हें मुआवजा बढ़ाकर दे दिया तो अन्य किसानों को भी देना पड़ेगा. किसानों का कहना है कि जो जमीन सिविल टर्मिनल के लिए दी जानी है, वह केवल खेत नहीं हैं. कहीं पर मकान बने हैं तो कहीं पर दुकान हैं. उनकी कीमत काफी है. ऐसे में समान दर पर जमीन देना संभव नहीं है. वहीं प्रशासन का कहना है कि अगर इन्हें मुआवजा राशि बढ़ाकर दे भी दी तो उनके लिए परेशानी खड़ी हो जाएगी. वहीं जिलाधिकारी ने तहसील प्रशासन को सख्त निर्देश दिए हैं कि जल्द से जल्द शेष जमीन का अधिग्रहण किया जाए.

19.8154 हैक्टेयर लेनी थी जमीन

सिविल टर्मिनल के लिए 19.8154 हैक्टेयर जमीन लेनी है. जिसमें से 19.4 हैक्टेयर ली जा चुकी है. अभी रनवे विस्तार के लिए 2. 5 हैक्टेयर और जमीन ली जानी है, जो कि अभी तक नहीं ली जा सकी है. इसके लिए तहसील प्रशासन लगातार प्रयास कर रहा है.

रनवे विस्तार के लिए जमीन ली जानी है. किसानों से बात चल रही है. जल्द ही जमीन ले ली जाएगी.

रजनीकांत

तहसीलदार, सदर