JAMSHEDPUR: श्री शिरड़ी साईं बाबा की समाधि शताब्दी वर्ष के उपलक्ष्य में साईं परिवार, जमशेदपुर बिष्टुपुर स्थित राम मंदिर में लगाई गई साईं प्रदर्शनी के दूसरे दिन 3 हजार से ज्यादा भक्तों ने बाबा के दर्शन किये. बुधवार की शाम की धूप आरती के बाद पुरुषोत्तम माह के प्रथम दिन भक्तों ने बाबा के सम्मुख पुरुषोत्तम महात्म्य स्तोत्र एवं दीप दान स्तुति का पाठ कर उपस्थित भक्तों ने श्री साईं को दीप दान किया.

पुरुषोत्तम मास महात्म स्तोत्र का गायन बिलासपुर से पधारे अजय मधुकर बाटवे ने किया. भजन संध्या में साईं परिवार, जमशेदपुर के कलाकारों ने एक से बढ़कर एक भजन प्रस्तुत कर माहौल को भक्तिमय बना दिया. बुधवार को झारखंड सरकार के झारखंड राज्य खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के सदस्य कुलवंत सिंह बंटी ने बाबा के दरबार में हाजरी लगायी एवं प्रदर्शनी का दर्शन किया. प्रदर्शनी को देखने शहर के कई गणमान्य लोग उपस्थित थे.

बताया पुरुषोत्तम माह का महत्व

साईं माउली, बिलासपुर के दिलीप दिवाकर ने कहा कि सूर्य तिथि के आधार पर जिस मास में सूर्य का संक्रमण अन्य राशि में नहीं होता उसे अधिक मास मलमास या पुरुषोत्तम मास कहते हैं. अन्य सभी मासों की तुलना में इसका अत्यंत महत्व पुराणों में कहा गया है. पद्म पुराण एवं नारद पुराण में इसका महत्व वर्णित किया गया है. इसमें दीपदान का अत्यधिक महत्व है पूरे मास भगवान के सन्मुख दीपदान किया जाता है.