नई दिल्ली (पीटीआई)। सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान का दो दिवसीय भारत का दौरा मंगलवार से शुरू हो रहा है।  अधिकारियों और कुछ सूत्रों का कहना है कि भारत उनके सामने देश में पाकिस्तान की ओर से आये दिन हो रहे आतंकी हमले का मुद्दा उठा सकता है। बता दें कि दक्षिण एशिया के अपने दौरे की शुरुआत में रविवार को इस्लामाबाद पहुंचे क्राउन प्रिंस सोमवार को सऊदी अरब लौट गए। पहले वह पाकिस्तान से सीधे इंडिया आने वाले थे लेकिन कुछ कारणों से उन्होंने अपना फैसला बदल लिया। अब वह सऊदी अरब से भारत आ रहे हैं।

आतंकी हमले का मुद्दा उठाएगा भारत
क्राउन प्रिंस की यात्रा से पहले सऊदी अरब के विदेश मंत्री एडेल अल-जुबिर ने सोमवार को इस्लामाबाद में कहा कि रियाद भारत और पाकिस्तान के बीच पुलवामा आतंकी हमले को लेकर शुरू हुए विवाद को खत्म करने की कोशिश करेगा। आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि सऊदी अरब अब कश्मीर और आतंकवाद को लेकर पाकिस्तान के नैरेटिव को स्वीकार नहीं कर रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और क्राउन प्रिंस के बीच बुधवार को होने वाली मुलाकात में भारतीय प्रतिनिधिमंडल प्रिंस के सामने पाकिस्तान समर्थित आतंकवाद और कश्मीर के मुद्दे को उठाएगा।

पांच समझौतों पर होगा हस्ताक्षर
विदेश मंत्रालय के आर्थिक मामलों के विभाग में सचिव टीएस तिरुमूर्ति ने बताया कि प्रिंस की यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच निवेश, पर्यटन, आवास, सूचना और प्रसारण के क्षेत्रों में पांच समझौतों पर हस्ताक्षर होने की उम्मीद है। उन्होंने कहा, 'हमें विश्वास है कि यह यात्रा भारत-सऊदी द्विपक्षीय संबंधों में एक नया चैप्टर खोलेगी।' बता दें कि भारत की अर्थव्यवस्था इस वक्त काफी मजबूत है और उसकी विकास दर 7 परसेंट है। सूत्रों का कहना है कि प्रिंस की यात्रा के दौरान रत्नागिरी रिफाइनरी परियोजना में सऊदी अरामको और अबू धाबी नेशनल ऑयल कंपनी (ADNOC) के जरिए 44 अरब डॉलर के निवेश पर बातचीत भी होगी।

'सांस नहीं ले सकता', ये थे पत्रकार खाशोग्गी के आखिरी शब्द

National News inextlive from India News Desk