क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ: रांची-जमशेदपुर हाइवे में देर और घोटालों की खबर के बाद हाइकोर्ट के आदेश पर सीबीआई ने जांच शुरू कर दी है. अभी जांच में तेजी भी नहीं आई है कि राज्य के एक और हाइवे रांची -गुमला के निर्माण पर भी सवाल खड़े होने लगे हैं. सवाल खड़े करने वाला इंसान भी राज्य सरकार का एक जिम्मेदार विधायक. हटिया विधायक नवीन जायसवाल ने साफ तौर पर रांची-गुमला हाइवे के निर्माण को घटिया कहा है. साथ ही काम की रफ्तार भी काफी सुस्त होने की बात कही है. सड़क सुरक्षा समिति के समक्ष अपनी बात रखते हुए उन्होंने जांच की मांग की है.

क्या कहा विधायक नवीन ने

बैठक में हटिया विधायक नवीन जयसवाल ने रातू और नगड़ी की सड़कों की स्थिति पर असंतोष जताया. कहा कि नगड़ी में सड़क निर्माण का कार्य बहुत धीमी गति से चल रहा है एवं दोनों तरफ सड़क निर्माण का कार्य एक साथ चल रहा है जिससे आवाजाही में काफी परेशानी हो रही है. उन्होंने परियोजना निदेशक एनएचएआई को 24 घंटे के अन्दर निर्माणाधीन सड़कों की गुणवत्ता की जांच कर रिपोर्ट सांसद को देने का निर्देश दिया है.

हो रहा मुआवजा घोटाला

विधायक नवीन जायसवाल ने आरोप लगाते हुए कहा है कि सड़क निर्माण के लिए रैयतों से अधिग्रहण की जाने वाली भूमि की मुआवजा राशि पर भी पुनर्विचार करने की आवश्यकता है. सरकार द्वारा बाजार दर से कम राशि दिए जाने के कारण ही रैयत भूमि नहीं देना चाहते हैं और परियोजनाओं को पूरा करने में देर होता है. जो राशि मुआवजे के नाम पर दी जा रही है वह भी बिचौलिए खा जा रहे हैं या घोटाले की भेंट चढ़ जा रही है. इस कारण रैयतों को काफी नुकसान हो रहा है.

वर्जन

मामले की जांच कर रिपोर्ट सौंपने के निर्देश जारी किए गए हैं. एनएचएआई द्वारा गुणवत्ता और कार्य की प्रगति की रिपोर्ट आ जाने के बाद उसपर कार्रवाई की मांग की जाएगी.

नवीन जायसवाल, विधायक, हटिया