-रोजाना किनारे पर टीचर्स लगाते हैं क्लास

-अधिकारियों को कई बार लिखित दे चुके हैं जानकारी

आगरा. शासनस्तर से शिक्षा को बेहतर करने के हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं. साथ ही शैक्षिक स्थिति सुधारने के लिए लागू नियमों को अमल में लाया जा रहा है. लेकिन फिर भी एक के बाद एक चौंकाने वाली स्थितियां सामने आ रहीं हैं. सात अगस्त को दैनिक जागरण-आई नेक्स्ट ने सिटी के एक स्कूल के हालात उजागर किए थे जहां बच्चे गली में जमीन पर बैठकर पढ़ने को मजबूर हैं.

छह साल से नहीं खुला ताला

हैरत की बात है कि छह साल से ग्रामीण इलाके में एक स्कूल में लगा ताला पिछले छह सालों से नहीं खुला है. खंदौली स्थित प्राथमिक विद्यालय गढ़ी राय सिंह विद्यालय पिछले छह वर्ष से तालाब में है. बारिश के दिनों में स्कूल के आस-पास तक पहुंचना और भी मुश्किल हो जाता है. मामला अधिकारियों के संज्ञान में आने के बाद भी आज तक समस्या का समाधान नहीं किया गया.

खाली प्लॉट में चलता है स्कूल

गढ़ी राय सिंह स्थित प्राथमिक विद्यालय में लगातार जलभराव से जर्जर हालात में है. आसपास पानी भरने से टीचर्स और स्टूडेंट्स विद्यालय के पास तक भी नहीं जा सकते. मजबूर टीचर्स को पानी के किनारे में स्टूडेंट्स की क्लास लगानी पढ़ती है. बारिश के दिनों में प्लॉट में भी जलभराव के हालात बन जाते हैं, ऐसी स्थिति में टीचर्स बच्चों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाकर पढ़ाई कराते हैं.

अधिकारियों से की है शिकायत

विद्यालय की स्थिति की जानकारी स्कूल की प्रधानाध्यापक इन्दुबाला व सहायक शिक्षिका सरिता द्वारा कई बार अधिकारियों को दी गई है. लेकिन, कोई सुनवाई नहीं की गई. प्रधानाध्यापक का कहना है कि वर्ष 2013 में उन्होंने स्कूल का चार्ज लिया था. उस समय इस स्कूल की बिल्डिंग नई बनाई गई थी. निर्माण में घटिया गुणवत्ता के चलते स्कूल की बिल्डिंग मात्र तीन वर्ष ही चल सकी. स्कूल की जर्जर स्थिति को देख बच्चों की संख्या लगातार गिरती जा रही है.