- सीबीएसई ने स्कूलों को कैशलेस करने के दिए हैं निर्देश

- निर्देशों के बाद अब स्कूलों ने भी शुरू कर दी है तैयारी

आई स्पेशल

MEERUT- पीएम मोदी की कैशलेस इकोनॉमी की अपील का असर अब सीबीएसई पर भी होता दिखाई दे रहा है। यही कारण है कि सीबीएसई ने अब एक जनवरी से पूरी व्यवस्था कैशलेश करने का निर्णय ले लिया है। ऐसे में आप अगर एक जनवरी को सीबीएसई स्कूल में पढ़ने वाले अपने बच्चे की फीस जमा करने जाएं तो डेबिट कार्ड या ऑनलाइन ट्रांजेक्शन का विकल्प तैयार रखें। क्योंकि एक जनवरी 2017 से सभी फीस ऑनलाइन और कैशलेस तरीके से जमा की जाएंगी। सीबीएसई के निर्देशों के बाद भी अब स्कूलों ने खुद को कैशलेस करने की तैयारी कर ली है।

अकाउंट में दें सैलरी

सीबीएसई ने स्कूलों को निर्देश जारी करते हुए ये भी कहा कि शिक्षकों और अन्य स्टाफ की सैलरी भी अब सीधे उनके बैंक खातों में भेजी जाएगी। इसके लिए सीबीएसई की ओर से ई पेमेंट की व्यवस्था की गई है, जिसके तहत एग्जाम फीस, एफिलिएशन और अन्य वित्तीय लेनदेन सभी ऑनलाइन किए जाएंगे।

दी जाए स्पेशल जानकारी

बोर्ड चाहता है कि स्कूलों की ओर से इस संबंध में अभिभावकों को भी विश्वास में लिया जाए। इसके लिए पैरेंट्स टीचर मीटिंग आयोजित कर उन्हें इस बात की जानकारी दी जाए। सर्कुलर में यह भी कहा गया है कि स्कूलों को अपने यहां पढ़ने वाले सीनियर स्टूडेंट्स को कैशलेश इकोनॉमी के लाभ बताने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए ।

स्कूल कर रहे तैयारी

स्कूलों ने भी सीबीएसई के निर्देशों के बाद अब तैयारी शुरू कर दी है। स्कूलों ने ई-पेमेंट, चेक पेमेंट, ऑनलाइन पेमेंट की तैयारी कर रहे हैं। स्कूलों की फीस तो जमा बैंकों के खाते में जमा हो सकती है। उधर स्कूल्स का कहना है कि अभी इसके बारे में उन्होंने कोई विचार नहीं किया है। क्योंकि स्कूलों में ऐसी एक्टिविटी अभी कम है।

क्या कहते हैं स्कूल्स

अभी इसके बारे में सोचा नहीं है, हो सकता है स्वैप मशीन मंगाई जाएगी। इसके साथ ही पेटीएम पेमेंट भी करवा सकते हैं।

मधु सिरोही, प्रिंसिपल, एमपीजीएस

स्कूल में अभी ऐसी कोई एक्टिविटी नहीं है, अगर होती भी है तो उसके लिए चेक पेमेंट करवाया जाएगा।

प्रेम मेहता, प्रिंसिपल, सिटी वोकेशनल स्कूल

स्कूलों में इसके लिए तैयारी चल रही है, टीचर के खातों में सैलरी देने के लिए और ई पेमेंट का प्लान स्कूल बना रहे हैं।

राहुल केसरवानी, प्रिंसिपल, सिटी लुक पब्लिक स्कूल