30 जून को ब्रिटिश दंपति पर हुआ था हमला
लंदन (पीटीआई)।
ब्रिटेन में कुछ दिनों पहले नर्व एजेंट की शिकार हुई 44 वर्षीय ब्रिटिश महिला डॉन स्टरगेस की मौत हो गई है। उन्होंने रविवार को ब्रिटेन के एक अस्पताल में इलाज के दौरान अपनी आखिरी सांसे लीं। बता दें कि 30 जून को ब्रिटिश दंपती डॉन स्टरगेस और 45 वर्षीय शार्ली राउले पर नर्व एजेंट से हमला किया गया था। हालांकि शार्ली का इलाज अब भी अस्पताल में चल रहा है लेकिन उनकी हालत भी गंभीर है। अधिकारियों के मुताबिक, इस हमले को लेकर जांच अब और भी तेज कर दी गई है।

अमेसबरी में पाया गया बेहोश

ब्रिटेन में आतंकरोधी विभाग के सहायक आयुक्त नील बसु ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा, 'यह अत्यंत दुखद समाचार है, डॉन अपने पीछे तीन बच्चों के साथ अपने परिवार को भी छोड़कर गई हैं। इस घटना के बाद से हम हमलावर को पकड़ने की तैयारी और भी तेज कर चुके है, उम्मीद है जल्द ही हम उसे पकड़ लेंगे।' बता दें कि 30 जून को डॉन और शार्ली को अमेसबरी में बेहोश पाया गया था। यह जगह सैलिसबरी के नजदीक है, खास बात यह है कि इसी जगह चार मार्च को पूर्व रूसी जासूस सर्गेई स्कि्रपल और उनकी बेटी यूलिया पर नर्व एजेंट से हमला किया गया था। इस हमले के लिए ब्रिटिश के अधिकारियों ने रूस को जिम्मेदार ठहराया था। हालांकि रूस ने इस बात से साफ इनकार कर दिया था। उस घटना के बाद से रूस और पश्चिमी देशों के संबंधों में तनातनी चल रही है।

ये है नर्व एजेंट
नर्व एजेंट एक खतरनाक केमिकल होता है, जिसे देने के कुछ ही मिनटों में आदमी की मौत हो जाती है। यह सबसे अधिक ज़हरीला रासायनिक हथियार है। यह साफ और अंबर रंग का तैलीय तरल पदार्थ है। यह कलरलेस और गंधहीन होता है।

जासूस की हत्‍या मामले में यूके के साथ ऑस्‍ट्रेलिया, कर सकता है फुटबाल विश्‍व कप का बहिष्‍कार

ब्रिटेन : पहले विश्व युद्ध में शहीद हुए हजारों सिख सैनिकों की लगेगी 10 फुट ऊंची प्रतिमा

International News inextlive from World News Desk