गाजियाबाद-मेरठ क्षेत्र में उद्योगों पर बड़ी कार्रवाई

यूपीपीसीबी कर रही प्रदूषणकारी उद्योगों को चिह्नित

निर्मल हिंडन अभियान के तहत की गई कार्रवाई

Meerut. मेरठ एवं अन्य जनपदों में स्थापित 316 उद्योग हिंडन को दूषित कर रहे हैं. निर्मल हिंडन अभियान के तहत गत दिनों उप्र प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने मेरठ-गाजियाबाद जनपदों के 35 प्रदूषणकारी उद्योगों को सील किया. यूपीपीसीबी लगातार ऐसे उद्योगों के खिलाफ कार्रवाई कर रहा है जो हिंडन को दूषित कर रहे हैं.

एक नजर स्िथति पर..

हिंडन व उसकी सहायक नदी के किनारों पर विभिन्न प्रकार के 316 उद्योग स्थापित हैं.

14-चीनी मिलें

8-डिस्टलरी

41-पल्प एवं पेपर

16-स्ट्रा बोर्ड

6-स्लाटर हाउस

5-फ्रोजन मीट पैकेजिंग

4-डेरी

6-चमड़ा

105-टेक्सटाइल

1-थर्मल पावर प्लांट

39-इलेक्ट्रो प्लेटिंग गैलवेनाइजिंग

71-अन्य

इसके अलावा हिंडन नदी में नगरीय क्षेत्रों में विभिन्न स्थानों पर लगभग 68 नाले गिरते हैं.

अब तक की कार्रवाई

15 टीमें-जांच के बनाई गई

35-उद्योगों को किया सील

55-उद्योगों को कारण बताओ नोटिस

9-उद्योगों पर 50-50 हजार का जुर्माना

68-उद्योग बंद मिले

एनजीटी के आदेशों के अनुक्रम में केंद्र व राज्य के प्रदूषण अधिकारियों व प्रदेश के जल निगम अधिकारियों की 15 टीमें बनाकर हिंडन के किनारे स्थापित उद्योगों की जांच कराई गई. जिसमें से 35 को सील किया गया है.

बीएस त्यागी, क्षेत्रीय अधिकारी, यूपीपीसीबी