- कानपुर की सबसे हाईटेक कैथलैब होने का दावा, एंजियोप्लास्टी से लेकर कई तरह के प्रोसीजर में मिलेगी मदद

kanpur@inext.co.in

KANPUR: हार्ट पेशेंट्स के लिए एक अच्छी खबर है. कार्डियोलॉजीमें कानपुर की सबसे हाईटेक कैथलैब ने काम करना शुरू कर दिया है. करोड़ों की लागत से बनी इस कैथलैब में अब ज्यादा बेहतर तकनीक से एंजियोप्लास्टी, बलूनिंग, स्टंटिंग व एंजियोग्राफी की जा सकेगी. मालूम हो कि कार्डियोलॉजी में हर क् घंटे में किसी न किसी पेशेंट को हार्ट से संबंधित कोई न कोई प्रोसीजर कैथ लैब में किया जाता है. ऐसे में यहां एक और नई कैथलैब बनाने के लिए शासन ने दो साल पहले फंड जारी किया था. अब इस नई कैथलैब का निर्माण पूरा हाे गया है.

भ् करोड़ की लागत से तैयार

विभाग के हेड प्रो. सीएम वर्मा ने बताया कि कैथलैब में सबसे लेटेस्ट टेक्नोलॉजी उपलब्ध है. जिससे पेशेंट्स की एंजियोग्राफी, एंजियोप्लास्टी, पेसमेकर लगाना और भी ज्यादा सुरक्षित हो गया है. कैथलैब में स्टेरलाइजेशन व इमेजिंग की सबसे लेटेस्ट सुविधाएं उपलब्ध हैं. करीब भ् करोड़ की लागत से बनी इस नई लैब से पेशेंट्स को और बेहतर सुविधाएं मिल सकेगी.

कार्डियोलॉजी एक नजर में..

- म् एचडीयू बेड

-ब्8 बेड पीओपी

-8 बेड सर्जिकल आईसीयू

-क् वेस्कुलर कैथलैब

-क् पेसमेकर कैथलैब

- क्.भ्ब् लाख पेशेंट्स की सालाना ओपीडी

-7फ्00 पेशेंट्स की भर्ती हर साल

-क्म्,000 पेशेंट्स की इकोकार्डियोग्राफी जांच

-म्भ् पेशेंट्स की टीएमटी जांच हर साल

कैथलैब पर इतना लोड

- ख्फ्00-कोरोनरी एंजियोग्राफी

-ब्ख्ब्- बलूनिंग व स्टंटिंग

- ब्क्0 - पेसमेकर इंप्लीमेंटेशन

--------------------

'हमारी दूसरी नई कैथलैब भी अब पूरी तरह से फंक्शनल है. यह सिटी में सबसे हाईटेक उपकरणों से लैस है. विभाग पर लगातार मरीजों का बोझ बढ़ा है. ऐसे में नई कैथलैब के चालू होने से क्वालिटी मेडिकल ट्रीटमेंट देने में सुविधा होगी.'

- प्रो. सीएम वर्मा, एचओडी, कार्डियोलॉजी विभाग, एलपीएस इंस्टीटयूट ऑफ कार्डियोलॉजी