मुंबर्इ (पीटीआर्इ)। लगातार सात कारोबारी सत्रों से बढ़त पर कारोबार कर रहे शेयर बाजार बुधवार को अपने रिकाॅर्ड स्तर से नीचे आ गया। भारतीय रिजर्व बैंक ने अपनी मौद्रिक नीति में रेपो रेट बढ़ा दिया। इससे भविष्य में लोन महंगा होना तय माना जा रहा है। कर्ज की दरें महंगी होने की आशंका के बीच बैंक आैर अाॅटो शेयरों में बिकवाली हावी हो गर्इ। इससे सेंसेक्स 85 प्वाइंट गिरकर बंद हुआ। आरबीआर्इ ने रेपो रेट में 0.25 प्रतिशत की बढ़ोतरी कर दी है। यह लगातार दूसरी बार है जब आरबीआर्इ ने रेपो रेट में बढ़ोतरी की है। अब रेपो रेट की दर 6.5 प्रतिशत पर आ गर्इ है।

रिकाॅर्ड स्तर छूकर नीचे आया सेंसेक्स
30 शेयरों वाले बीएसर्इ सेंसेक्स अपने शुरुआती कारोबार में रिकाॅर्ड 37,711.87 अंक के स्तर तक पहुंच गया। आरबीआर्इ के मौद्रिक नीति की घोषणा करते ही इसमें उतार-चढ़ाव शुरू हो गया। दोपहर के बाद कारोबार के दौरान एक बार एेसा लगा कि सेंसेक्स एक बार फिर उसी ऊंचार्इ पर पहुंच जाएगा लेकिन अंततः वह गिरावट के साथ ही बंद हुआ। बीएसर्इ सेंसेक्स 84.96 अंक की गिरावट के साथ 37,521.62 अंक के स्तर पर बंद हुआ।

सात कारोबारी सत्र में 1,110.21 अंकों का उछाल
पिछले सात कारोबारी सत्रों के दौरान सेंसेक्स ने लगातार बढ़त हासिल करके 1,110.21 अंकों की उछाल दर्ज की। 50 शेयरों वाला निफ्टी भी 10.30 अंक लुढ़ककर 11,346.20 अंक के स्तर पर बंद हुआ। बुधवार को कारोबार के दौरान यह 11,390.55 से 11,313.55 अंकों के स्तर पर झूलता रहा। आरबीआर्इ की मौद्रिक नीति की घोषणा के चलते कर्ज की दरें महंगा होने की आशंका से आॅटो, बैंकिंग आैर फाइनेंस शेयरों में बिकवाली हावी हो गर्इ। इस सेक्टर के शेयर गिरावट के साथ बंद हुए।

लोन लेकर गाड़ी-बंगला खरीदना होगा महंगा! RBI ने बढ़ाया रेपो रेट, जानें मौद्रिक नीति की मुख्य बातें

पाकिस्‍तानी जुल्‍मों के बंधन से मुक्‍त होकर गरीब चंद्र शेखर घोष ने खोला बैंक, शेयर बाजार में बंपर लिस्टिंग

Business News inextlive from Business News Desk