पहला धमाका सुबह 5.20 बजे
जानकारी के अनुसार, पहला धमाका सुबह लगभग पांच बजकर 20 मिनट पर हुआ. इसके बाद दो-दो मिनट के अंतराल पर आधे घंटे के भीतर एक के बाद एक आठ धमाकों से पूरा शहर थर्रा उठा. इन धमाकों में मंदिर परिसर के पास प्रमुख स्थलों को निशाना बनाया गया. हालांकि 1500 साल पुराने मुख्य मंदिर और महाबोधि वृक्ष को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है. किसी ने भी इन धमाकों की जिम्मेदारी नहीं ली है. वहीं, प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने इन हमलों की निंदा की है.

बुद्ध की प्रतिमा के पास धमाका
डीआइजी नैयर हुसनैन खान ने बताया कि चार बम मंदिर परिसर के भीतर, तीन करमापा मठ के पास, एक बम प्रसिद्ध 80 फीट की बुद्ध प्रतिमा के पास हुआ है. पूरे मंदिर परिसर को खाली करा दिया गया है और किसी को भी मंदिर परिसर में प्रवेश की इजाजत नहीं दी जा रही है. पुलिस ने दो जिंदा बम भी बरामद किए गए हैं. खान ने कहा कि बोधगया शहर को सील कर दिया गया है और संदिग्धों की तलाश की जा रही है. प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि एक संदिग्ध व्यक्ति को मंदिर परिसर के पास कुर्ते-पायजामे में देखा गया था और उसने पीठ बड़ा बैग और कंधे पर एक झोला टांग रखा था.

महाबोधि मंदिर काफी प्रसिद्ध
सूत्रों के मुताबिक दो घायलों की हालत गंभीर है, जिनमें से एक म्यांमार और दूसरा तिब्बत का बताया जा रहा है. दोनों को इलाज के लिए मगध मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया है. बोधगया का महाबोधि मंदिर देश-दुनिया में काफी प्रसिद्ध है. यहां भारी संख्या में जापान, मलेशिया, चीन सहित कई दक्षिण एशियाई देशों से बौद्ध श्रद्धालु आते हैं. रविवार को यहां खास तरह की परिक्रमा भी होती है.

सीएम बोधगया रवाना
पुलिस और प्रशासन के आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं. वहीं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एवं डीजीपी अभयानंद बोधगया के लिए रवाना हो गए हैं. साथ ही राष्ट्रीय जांच एजेंसी एवं एनएसजी की एक टीम (एनआइए) भी घटनास्थल पर पहुंच रही है. इस बीच, गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार से पूरे मामले पर रिपोर्ट मांगी है. गृह सचिव अनिल गोस्वामी ने इस सीरियल ब्लास्ट को आतंकी घटना माना है. उन्होंने कहा कि इस हमले में इंडियन मुजाहिद्दीन का हाथ हो सकता है.

आईबी ने किया था अलर्ट
गौरतलब है कि करीब एक सप्ताह पहले ही आइबी ने अलर्ट जारी किया था कि राजधानी पटना में दो विदेशी आतंकी घुसे हैं, इनके निशाने पर महाबोधि मंदिर सहित प्रदेश के कई धार्मिक स्थान हैं. इसलिए इस मंदिर सहित अन्य धार्मिक स्थानों की सुरक्षा बढ़ाने के लिए कहा गया था इसके बावजूद सुरक्षा में इतनी बड़ी चूक हुई. बोधगया में धमाके के बाद सरकार ने पूरे राज्य में हाई अलर्ट जारी कर दिया है और पटना स्थित हनुमान मंदिर एवं प्रमुख इमारतों समेत सभी प्रमुख धार्मिक व पर्यटक स्थलों पर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है. उधर, गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ट्वीट कर आतंकी घटना को कायरतापूर्ण करार देते हुए कहा है कि यह देश के लोगों और दुनिया भर में फैले बौद्ध श्रद्धालुओं के दुखद घटना है.

National News inextlive from India News Desk