छ्वन्रूस्॥श्वष्ठक्कक्त्र: गुरु गोमके पंडित रघुनाथ मुर्मू के 113वीं जयंती पर 30 अप्रैल को संताल समाज के लिए सराहनीय योगदान देने वाले सात लोगों को गुरु गोमके पंडित रघुनाथ मुर्मू सम्मान से सम्मानित किया जाएगा. गुरु गोमके पंडित रघुनाथ मुर्मू अकादमी और जाहेरथान कमेटी दिशेम जाहेर करनडीह की ओर से एसएनटीआई बिष्टुपुर में संध्या साढे पांच बजे से आयोजित कार्यक्रम में संस्था के सभी शिक्षक तथा समन्वयक शामिल होंगे. यह निर्णय शनिवार को दिशोम जाहेर करनडीह में गुरु गोमके पंडित रघुनाथ मुर्मू अकादमी और जाहेर थान कमिटी का बैठक में लिया गया. बैठक की अध्यक्षता माझी जुबराज टुडू ने की. इस अवसर पर 30 अप्रैल 2018 को 113वीं गुरु गोमके पंडित रघुनाथ मुर्मू जयंती समारोह मनाने पर चर्चा किया गया. पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार जयंती समारोह का आयोजन ट्राईबल कल्चरल सोसाईटी के साथ मिलकर किया जाएगा. इसके तहत 30 अप्रैल को सुबह साढे सात बजे प्रभात फेरी निकाला जाएगा. साढे आठ बजे गुरु गोमके के चित्र पर माल्यार्पण करने के बाद हितल प्रार्थना किया जाएगा. सभी कार्यक्रम अकादमी तथा टीसीएस द्वारा संचालित 90 केंद्रों द्वारा झारखंड तथा उड़ीसा के 36 प्रखंड मुख्यालयों में एक ही समय में मनाया जाएगा. शाम को बिष्टुपुर स्थित एसएनटीआई में आयोजित कार्यक्रम में पद्मश्री प्रो. दिगंबर हांसदा, जिप उपाध्यक्ष राजकुमार सिंह, धाड़ दिशोम पारगाना बैजू मुर्मू और करीम सिटी कॉलेज के प्राचार्य डॉ. मो जकारिया अतिथि के रूप में शामिल होंगे.

इन्हें दिया जाएगा सम्मान

संताली साहित्य में सराहनीय योगदान के लिए रूपचांद हांसदा को, ओल चिकी को बढ़ावा देने के लिए सालखन मुर्मू को, संताली संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए गंगारानी थापा को, संताली ड्रामा को लोकप्रिय बनाने के लिए ईश्वर सोरेन को, संताली संस्कृति के लिए किनु सूरज टुडू को, खेल के क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने वाली लक्ष्मी रानी माझी को गुरु गोमके सम्मान दिया जाएगा.