- शहर में जेएनएनयूआएम के तहत शुरू की गई 800 करोड़ से सीवर लाइन डालने की योजना

- 12 साल बाद भी पूरी नहीं हुई योजना, 40 परसेंट आबादी क्षेत्र में आज भी नहीं है सीवर लाइन

kanpur@inext.co.in

KANPUR : शहर के लोगों को आज तक सीवर भराव से आजादी नहीं मिल पाई है. यह हाल तब है जब जेएनएनयूआरएम योजना के तहत लगभग 800 करोड़ रुपए की लागत से सीवर लाइन डालने का कार्य किया जा रहा है. 12 साल कार्य के बाद भी यह योजना पूरी नहीं हो सकी है. शहर की 15 लाख से ज्यादा की आबादी को हर रोज सीवर समस्या से दो-चार होना पड़ रहा है. इस योजना को 2014 में पूरा किया जाना था, लेकिन आज तक सिर्फ 40 परसेंट सीवर लाइनों की टेस्टिंग हो पाई है.

प्रोजक्ट: जेएनएनयूआरएम डीप सीवर लाइन

800 करोड़ से हो रहा सीवर लाइन डालने का काम

2014 में पूरा किया जाना था लाइन डालने का प्रोजेक्ट

12 साल के बाद भी प्रोजेक्ट पूरा नहीं हो सका

40 परसेंट सीवर लाइनों की टेस्टिंग हो पाई है

191 किमी. सीवर लाइन अब तक डाली जा चुकी है

60 फीसदी से ज्यादा पुरानी लाइनें हो चुकीं क्षतिग्रस्त

धरातल पर नहीं उतरे एसटीपी

शहर में जेएनएनयूआरएम योजना के तहत 191 किमी. सीवर लाइन डाली जा चुकी है अब इसका फायदा तब ही मिलेगा, जब एसटीपी में सीवर ट्रीट किया जा सकेगा. अभी तक सिर्फ बिनगवां एसटीपी ही चालू किया जा सका है, जिसमें 210 एमएलडी सीवर को ट्रीट किया जा रहा है. बाकी 3 एसटीपी अभी धरातल पर ही नहीं आए हैं. वहीं 104 करोड़ रुपए से बनियापुर में एसटीपी और कैंट में 3.5 किमी. पाइप लाइप बिछाने का कार्य शासन से पैसा न मिलने के चलते पूरा नहीं हो पा रहा है. अगर यह कार्य पूरा हो जाए तो जाजमऊ स्थित एसटीपी में दूषित पानी ट्रीट होने के लिए पहुंचने लगेगा.

60 परसेंट लाइनें क्षतिग्रस्त

शहर के पुराने इलाकों में दशकों पुरानी सीवर लाइनें पड़ी हुई हैं, जो 60 परसेंट से ज्यादा क्षतिग्रस्त हो चुकी हैं. इसकी वजह से आए दिन मोहल्लों में सीवर का पानी भर जाता है. सैकड़ों बार शहर के विभिन्न इलाकों के लोग नगर निगम, जलकल और जल निगम मुख्यालय पर प्रदर्शन तक कर चुके हैं. लेकिन कार्य पूरा न होने से समस्या दूर नहीं हो सकी है. शहर के पॉश इलाके में शुमार स्वरूप नगर में भी दशकों पुरानी पड़ी सीवर लाइन क्षतिग्रस्त होने से सीवर समस्या बनी हुई है. बेगमपुरवा और बाबूपुरवा समेत दर्जनों इलाकों में सीवर भराव से डायि1रया भी फैलने लगा है.

कैंट में अब भी काम बाकी

4 किमी में 2000 एमएम की गहरी सीवर लाइन बिछाने का कार्य कैंट एरिया में भी किया जाना था. कार्य की परमीशन मिलने के बाद भी फंड न होने से इस कार्य को पूरा नहीं किया जा सका है. इस लाइन को छावनी से वाजिदपुर, जाजमऊ से जोड़ना था. जहां सीवर के पानी को ट्रीट किया जाना था. वहीं इस लाइन को बनियापुर में प्रस्तावित 15 एमएलडी और जाजमऊ में 43 एमएलडी का एसटीपी बनाया जाना है. जाजमऊ में एसटीपी का निर्माण लगभग पूरा हो चुका है, लेकिन फंड न होने से कार्य में रुकावट आ रही हैं.

-----------

जेएनएनयूआरएम के तहत काफी कार्य पूरा कार्य कर लिया गया है. इस योजना में नई सीवर लाइन डालने की कार्ययोजना है. डिस्ट्रिक्ट-1 के अंतर्गत 34 वार्डो में सीवर लाइनों की सफाई का कार्य भी शामिल है, जिसे पूरा किया जा रहा है.

-आरके अग्रवाल, जीएम, जल निगम.