- मसूरी डाइवर्जन तिराहे से 2 कारों में बैठे 4 आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

- 6 युवतियों को कराया मुक्त, प्रदेश के बाहर से भी लाते थे युवतियां

DEHRADUN: देहरादून, नेपाल सहित विभिन्न प्रदेशों से लड़कियों को नौकरी का झांसा देकर मसूरी लाकर उनसे देह व्यापार कराने वाले एक गैंग का पुलिस और एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल ने पर्दाफाश किया है. गैंग द्वारा दो कारों में 6 युवतियों को देह व्यापार के लिए मसूरी ले जाया जा रहा था. टीमों ने मसूरी रोड पर चेकिंग के दौरान मामले का भंडाफोड़ किया. मौके से चार आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है. मौके से 6 युवतियों को भी पुलिस और एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल ने मुक्त कराया. आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है.

चेकिंग के दौरान हुआ पर्दाफाश
जानकारी के अनुसार एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल विकासनगर को सूचना मिली कि कुछ लोग जो देह व्यापार में लिप्त हैं, दिल्ली व हिमाचल से लड़कियां लाकर दून से मसूरी की ओर जा रहे हैं. सूचना पर एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल और दून पुलिस की टीम ने सूचना के मुताबिक दून-मसूरी रोड पर चेकिंग अभियान शुरू किया. इसी दौरान टीम को डायवर्जन तिराहे पर 2 कारें संदिग्ध अवस्था में दिखाई दीं. इनमें से एक आई-10 व दूसरी इंडिका कार में 3-3 युवतियां बैठी थीं.

नौकरी का झांसा देकर देह व्यापार
पुलिस और एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल की टीमों ने कार सवार युवतियों से पूछताछ की तो मामला देह व्यापार से जुड़ा निकला. युवतियों ने बताया कि कार सवार रोबिन, मोनू गुंसाई की कार में उन्हें नौकरी का झांसा देकर दिल्ली से लाया और मसूरी ले जा रहा है. बताया कि उन्हें पैसों का लालच भी दिया गया और अनौतिक काम करवाने के लिए दबाव बनाया जा रहा है. पुलिस ने दोनों कारों में सवार चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया. राजपुर थाने में चारों के खिलाफ केस फाइल किया गया है.

दूसरे राज्यों व नेपाल से लाते थे लड़कियां
पुलिस की पूछताछ में पता चला है कि गिरोह दिल्ली, यूपी के कई इलाकों और नेपाल से युवतियों को नौकरी का झांसा देकर मसूरी लाते थे. इसके बाद उन्हें पैसे का लालच देकर देह व्यापार के लिए मजबूर किया जाता था.

इन्हें किया गिरफ्तार

- राहुल सिंह चौहान (23) निवासी सोनिया विहार नई दिल्ली

- आलोक सिंह (22) निवासी शाहजहांपुर यूपी

- मोनू गुंसाई (26) निवासी बह्मपुरी पटेलनगर

- रोबिन (35) निवासी पीपिंग जिला अराहाथी नेपाल

6 युवतियां कराईं मुक्त
पुलिस ने दोनों कारों से 6 युवतियों को मुक्त कराया. जिनमें से 3 मूल रूप से नेपाल की रहने वाली बताई जा रही हैं. वहीं, 2 युवतियां दिल्ली व एक देहरादून की रहने वाली है.

बरामदगी

- 12, 600 रुपए नकद

- 4 मोबाइल फोन

- आपत्तिजनक वस्तुएं.

10 दिन के अंदर 2 बड़ी कार्रवाई

बीते 10 दिन के अंदर ही एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल और दून पुलिस की संयुक्त टीमों ने दून में दो अंतर्राज्यीय सेक्स रैकेट्स का पर्दाफाश किया है. बीते 27 नवंबर को टीम ने पटेलनगर इलाके के एक होटल में सेक्स रैकेट का पर्दाफाश किया था. जिसमें, बिहार के दंपति को गिरफ्तार कर 2 युवतियों को मुक्त कराया गया था. इसके बाद ये दूसरा मामला सामने आया है.