क्कन्ञ्जहृन्: कांग्रेस बड़ी पार्टी होने के नाते 2019 चुनाव से पहले विपक्षी एकता की धुरी बनेगी, लेकिन नेता का चयन बाद में होगा. यह बातें मंगलवार को शरद यादव ने पीसी कर कही. उन्होंने कहा कि 1977, 1989 और 1996 में भी केंद्र में गठबंधन की सरकार बनी थी, लेकिन नेता का चयन बाद में किया गया था. मौके पर उन्होंने केंद्र और राज्य सरकार की नीतियों पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ने 11 करोड़ लोगों के विश्वास को कुचला है. शरद यादव ने कहा कि जनता की गाढ़ी कमाई लूटने के लिए ही पेट्रोलियम पदार्थो को जीएसटी से अलग रखा गया है. चार सालों में पेट्रोलियम पदार्थो से सरकार ने करीब 19.62 लाख करोड़ कमाए हैं. उत्पाद शुल्क के रूप में 11.48 लाख करोड़ और राज्य सरकारों द्वारा वैट के रूप में 8.13 लाख करोड़ वसूले गए. लगता है इसी लूट के पैसे से सरकार देश चला रही है. सरकार ने चार सालों में अपना एक भी वादा पूरा नहीं किया.

सरकारी तंत्र हुआ लुंज-पुंज

शरद ने कहा कि बिहार में शराबबंदी कानून के तहत जो लोग गिरफ्तार हुए हैं, उनमें 90 परसेंट गरीब हैं. महागठबंधन में सरकार की साख थी, लेकिन नीतीश के राजग में जाने पर सरकार का तंत्र लुंज-पुंज हो गया है. नीतीश अब कह रहे हैं कि शराबबंदी कानून में संशोधन करेंगे. मौके पर शिवजी राय व रामाशीष चौधरी ने लोकतांत्रिक जनता दल की सदस्यता ग्रहण की.