-आरोपितों की आवाभगत से भड़के एमआर, प्रदर्शन

-मनबढ़ दुकानदार पहले भी करते रहे हैं मारपीट, पुलिस नहीं करती कार्रवाई

-समझौते की कोशिश बेकार, कैंट में हुई एनसीआर

GORAKHPUR: भालोटिया मार्केट में स्टाकिस्ट की शॉप पर एमआर की पिटाई से घंटों माहौल गर्म रहा. वहीं, कैंट पुलिस थाने में आरोपी दवा व्यापारी की मेहमानबाजी करती दिखी. इससे एमआर आक्रोशित हो गए और कार्रवाई की मांग को लेकर कैंट थाना के सामने सड़क जाम कर प्रदर्शन किया. पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करते हुए आरोपित दवा कारोबारियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की मांग की. एमआर और दवा कारोबारी के बीच विवाद को देखते हुए दोनों पक्षों से बड़ी संख्या में लोग जुट गए. देर शाम तक सुलह-समझौते की बात चलती रही. बात न बनने पर एमआर की तहरीर पर आरोपित दवा कारोबारियों के खिलाफ पुलिस ने एनसीआर दर्ज किया. इंस्पेक्टर कैंट चंद्रभान सिंह ने बताया कि पीडि़त की तहरीर पर आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है.

पिपराइच कस्बा निवासी गोविंद कश्यप एमआर है. दिल्ली से लौटे गोविंद ने सितंबर में एक कंपनी ज्वाइन किया है. राजघाट के मिर्जापुर निवासी प्रमोद कुमार मोदी की भालोटिया मार्केट में मोदी फार्मा नाम से दुकान है. वहीं, कंपनी के स्टाकिस्ट भी हैं. शनिवार दोपहर करीब दो बजे दवा सप्लाई के चेक को लेकर एमआर की दुकानदार से कहासुनी हो गई. आरोप है कि दुकान मालिक सुमित और अन्य लोगों ने दुकान के भीतर एमआर गोविंद कश्यप को जमकर पीट दिया. एमआर की पिटाई की सूचना से अन्य साथी बौखलाकर दुकान पर पहुंच गए. उधर, से दवा कारोबारी के पक्ष में दुकानदार भी आ गए. एक दूसरे के खिलाफ आरोप-प्रत्यारोप से मामले ने तूल पकड़ लिया. सूचना पाकर कैंट पुलिस भालोटिया मार्केट में पहुंच गई.

थाने के बाहर किया प्रदर्शन, नारेबाजी

बताया जाता है कि एमआर के पक्ष में सैकड़ों मेडिकल रिप्रजेंटेटिव थाने पर जुट गए. आरोपित के पक्ष में दवा विक्रेता भी आ गए. आरोप है कि एमआर को पीटने वाले दुकानदारों की पुलिस ने आवाभगत शुरू कर दी. आरोपित और उनके साथ पहुंचे लोग जूस-लस्सी पीने लगे. जबकि, हो हल्ला कर रहे एमआर को थाना से बाहर कर दिया गया. इससे भड़के सैकड़ों एमआर थाने के सामने प्रदर्शन करने लगे. एमआर की भीड़ जुटने से कुछ देर के लिए रास्ता बंद हो गया. सख्ती दिखाते हुए पुलिस कर्मचारियों ने एमआर को दूर खदेड़ दिया.

एक दूसरे पर लगाते रहे आरोप

दवा कारोबारी प्रमोद कुमार ने आरोप लगाया कि एमआर गोविंद ने उनकी दुकान से दवा सप्लाई की थी. एक अगस्त की रात गोविंद चेक लेने आए तो दुकान बंद हो रही थी. एमआर को दूसरे दिन बुलाया गया तो वह नहीं आए. चार अगस्त को कुछ लोगों संग पहुंचे. सुमित के साथ उलझकर हाथापाई करने लगे. उधर, एमआर ने कहा कि दवा कंपनी के कारोबार को दुकानदार उससे चार सौ रुपए की मांग कर रहे थे. इसको लेकर दोनों के बीच कहासुनी हुई, जिस पर पिता-पुत्र ने उनकी पिटाई कर दी.

छह माह में तीन घटनाएं

छह माह के भीतर भालोटियां में तीन बार ऐसी घटनाएं हो चुकी है. मामूली बात पर मनबढ़ दुकानदार किसी न किसी एमआर को पीट देते हैं और पुलिस कोई कार्रवाई नहीं करती है.

एमआर को पीटने के आरोप में दवा कारोबारी प्रमोद मोदी और उसके बेटे सुमित के खिलाफ केस दर्ज किया गया है. उनके खिलाफ दफा 151 के तहत कार्रवाई की जाएगी.

प्रभात राय, सीओ कैंट