- गांधी उद्यान से लेकर डेलापीर तक नगर निगम ने चलाया सफाई अभियान

-श्यामगंज पुल सेतु निगम के जीएम ने साफ की थी गंदगी तो तूल पकड़ा मामला

BAREILLY :

बरेली में गंदगी के मसले पर चौतरफा घिरे नगर निगम ने सड़कों और पुलों पर झाड़ू लगाने के लिए 229 कर्मचारी तैनात किए हैं. नगर निगम ने यह एक्शन तब लिया, जब श्यामगंज पुल गंदगी से चोक ड्रेनेज सेतु निगम के जीएम द्वारा साफ करने की न्यूज को दैनिक जागरण आईनेक्स्ट ने प्रमुखता के साथ पब्लिश किया. खबर का असर कदर हुआ कि वेडनसडे को पुल की सफाई करने के लिए कई सफाईकर्मी पहुंच गए. उन्होंने पुल की सफाई कर करीब आधा ट्रॉली मिट्टी का ढेर उठाया.

प्रति किलोमीटर 2 सफाइर् कर्मचारी

श्यामगंज पुल की सफाई की हकीकत की न्यूज पब्लिश होते ही नगर निगम ने पुल के साथ पूरे शहर में सफाई के लिए ठेकेदार नियुक्त कर दिए. नगर निगम ने सफाई के लिए पूरे शहर में तीन ठेकेदार लगाए हैं. तीन ठेकेदार के अंडर में 229 सफाई कर्मचारी शहर की सफाई करेंगे. नगर निगम के अफसरों का कहना है कि ठेकेदार ने प्रति किलोमीटर दो सफाई कर्मचारी सफाई के लिए लगाए हैं. ताकि शहर में पुल और सड़कों पर कहीं कूड़ा और गंदगी न दिखाई दे. इसके साथ ही शहर की सड़कों से कूड़ा उठाने के लिए भी वाहन लगाएं है, जिससे कूड़ा समय से उठाया भ्ाी जा सके.

ट्यूजडे को श्यामगंज पहुंचे थे जीएम

लखनऊ से सेतु निगम के महाप्रबंधक योगेन्द्र सिंह और मुरादाबाद से सेतु निगम के महाप्रबंधक आरपी सिंह श्यामगंज पुल पर व्यू कटर की जांच करने के लिए पहुंचे थे. दोनों अफसरों ने बताया कि वह व्यू कटर का निरीक्षण करने के लिए आए थे. लेकिन पुल पर पानी भरा देख ड्रेनेज साफ करने लगे. अफसरों को पुल पर रबर भी उखड़ी हुई मिली थी. जिस पर उन्होंने पुल की ड्रेनेज को ठीक करने के साथ पुल पर सफाई रखने के निर्देश दिए थे. ज्ञात हो श्यामगंज पुल पर मांझा से आए दिन हादसे हो रहे थे. जिसको लेकर सेतु निगम के अफसरों ने शासन से तीन माह पहले 50 लाख रुपए की धनराशि की मांग की थी, जिससे पुल पर व्यू कटर लगवाए जा सके. लेकिन शासन से धनराशि स्वीकृत नहीं हो सकी तब तक अफसरों ने सेतु निगम मुख्यालय से 30 लाख रुपए लेकर पुल पर व्यू कटर लगवा दिए थे.