lucknow@inext.co.in
Lucknow: जल निगम भर्ती घोटाले के मुख्य आरोपी पूर्व काबीना मंत्री आजम खान की मुश्किलें बढऩे वाली है। घोटाले की जांच कर रही एसआईटी ने उन दस गवाहों को तलब कर लिया है जिन्होंने भर्तियों में हुई हेराफेरी के बारे में एसआईटी को अहम जानकारियां दी थी। अब एसआईटी उनके बयान दर्ज करने जा रही है ताकि आजम समेत घोटाले के सभी आरोपितों पर कानून का शिकंजा कसा जा सके। एसआईटी जल्द ही आजम खान समेत सात आरोपितों को भी नोटिस जारी कर तलब करेगी और उनके बयान दर्ज करने के बाद अदालत में चार्जशीट दाखिल करेगी।

फिलहाल नहीं होगी गिरफ्तारी
भर्ती घोटाले की जांच में तेजी लाकर एसआईटी इस प्रकरण में जल्द चार्जशीट लगाने की तैयारी में है। फिलहाल एसआईटी द्वारा किसी भी आरोपित को गिरफ्तार नहीं किया जाएगा, हालांकि अदालत के निर्देश पर उन्हें पेश करना पड़ सकता है। हालांकि इससे पहले एसआईटी सारे कील-कांटे दुरुस्त कर लेना चाहती है ताकि अदालत में किसी भी आरोपित को राहत न मिल सके। ध्यान रहे कि इस मामले की जांच राज्य सरकार के निर्देश पर एसआईटी ने शुरू की थी जिसमें तमाम सुबूत मिलने पर तत्कालीन जल निगम के अध्यक्ष आजम खान, सचिव नगर विकास एसपी सिंह, तत्कालीन एमडी जल निगम पीके आसुदानी समेत सात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करायी गयी थी।

आजम खां ने की थी मनमानि‍यां, जल निगम में 700 करोड़ के घाटे के बाद भी हुई भर्ति‍यां, 4 कैंडीडेट खोलेंगे घोटाले के राज

जल निगम भर्ती को लेकर फंसे आजम खान, दर्ज हुई एफआईआर

National News inextlive from India News Desk