-एसआईटी पहुंची देवरिया, गिरजा देवी का शिक्षक पुत्र निलंबित

GORAKHPUR: देवरिया शेल्टर होम कांड मामले की जांच एसआईटी ने अपने स्तर से शुरू कर दी है. शुक्रवार को देवरिया पहुंची एसआईटी की तीन सदस्यीय टीम ने डेरा डाल लिया है. एडीजी क्राइम संजय सिंघल के नेतृत्व में टीम ने देवरिया में शेल्टर होम समेत सभी दफ्तरों में दस्तावेज खंगालना शुरू कर दिया है. वहीं, बीएसए देवरिया ने गिरजा देवी के शिक्षक पुत्र प्रदीप त्रिपाठी को भी निलंबित कर दिया है. प्रदीप त्रिपाठी पर लगातार स्कूल से गायब रहने का आरोप है. बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, भलुवनी ब्लॉक में तैनात प्रदीप त्रिपाठी के खिलाफ गांव के लोगों ने शिकायत की थी. जांच में अनुपस्थित रहने की शिकायत सही पाई गई.

कई पुलिसवालों पर गिर सकती है गाज

संस्था की मान्यता रद्द होने के भी 2017 के बाद लगातार लड़कियों को मां विंध्यवासिनी महिला व प्रशिक्षण संस्थान की तरफ से संचालित आश्रय गृह में लड़कियों और महिलाओं को भेजने के मामले में कई थाना अध्यक्षों पर गाज गिरना तय है. देवरिया एसएसपी ने बताया कि सभी थानों को एसपी ऑफिस से संस्था के अमान्य होने की सूचना देकर पहले ही लड़कियों या महिलाओं को इस संस्था केआश्रय गृह मना कर दिया गया था. बात दें कि गिरजा त्रिपाठी के आश्रय गृह में नौ सौ से अधिक लड़कियों व महिलाओं को पुलिस द्वारा भेजा जा चुका है. यह आंकड़ा 2017 के बाद के हैं. वहीं, हाईकोर्ट केसख्त होने के बाद पुलिस विभाग जल्द कार्रवाई करने में जुट गया है.