बरेली : शहर को स्मार्ट बनाने के लिए बरेली स्मार्ट सिटी कंपनी ने काम शुरू कर दिया है. योजना के तहत सबसे पहले शहर में कमांड एंड कंट्रोल सेंटर स्थापित किया जाएगा. इसी सेंटर से ट्रैफिक, स्वास्थ्य, साफ-सफाई समेत अन्य जनसुविधाओं को केंद्रीकृत किया जाएगा. सेंटर स्थापित करने के लिए कंपनी को डीपीआर बनाने के निर्देश दिए गए हैं.

एक छत के नीचे होंगे काम

स्मार्ट सिटी योजना के तहत शहर की 19 जनवरी को घोषणा हुई थी. उसके बाद से नगर निगम योजना की औपचारिकताएं पूरी करने में लगा था. निगम ने बरेली स्मार्ट सिटी लिमिटेड कंपनी का गठन करने के साथ ही बीते दिनों पीएमसी (प्रोजेक्ट मैनेजमेंट कंटल्टेंट) के रूप में श्रेई कंपनी को चुना गया है. इधर, बीते दिनों स्मार्ट सिटी कंपनी के चेयरमैन की बैठक में श्रेई कंपनी को काम करने को सहमति दे दी गई. कंट्रोल सेंटर में जनसुविधाओं के सभी कार्य एक छत के नीचे होंगे. इस सेंटर से पूरे शहर पर नजर रखी जाएगी. लोगों की समस्याओं का भी समाधान इसी सेंटर पर होगा.

प्रोजेक्ट के लिए प्रशासन से मांगी भूमि

स्मार्ट सिटी योजना के तहत होने वाले तमाम कामों के लिए प्रशासन से भूमि की मांग की गई है. कमांड एंड कंट्रोल सेंटर, जरी-जरदोजी रिसर्च सेंटर, सिंगिल विंडो क्लियरेंस ऑफिस समेत कार्यालय बनाने के लिए भूमि की जरूरत है. इसके चलते नगर आयुक्त ने डीएम से भूमि की मांग की है.

ये सुविधाएं होंगी केंद्रीकृत

- ट्रैफिक व्यवस्था

- स्वास्थ्य सेवा

- ई-हॉस्पिटल

- ई-चालान

- सीसीटीवी सर्विलांस

- स्ट्रीट लाइट्स

- टैक्स, बिल जमा

स्मार्ट सिटी योजना के काम व बजट

स्मार्ट सिटी मिशन - 47 - 814.79 करोड़

कंवर्जेस - 16 - 634.21 करोड़

पीपीपी - 11 -454 करोड़

वर्जन

स्मार्ट सिटी बनाने के लिए पीएमसी का गठन किया जा चुका है. योजना के तहत सबसे पहले कमांड एंड कंट्रोल सेंटर बनाया जाएगा. इसके लिए कंपनी से डीपीआर बनाने को कह दिया है.

आरके श्रीवास्तव, नगर आयुक्त

::::