bareilly@inext.co.in

-सुभाषनगर और मीरगंज में पकड़ी गई पशु तस्करी

BAREILLY/MEERGANJ: योगी सरकार में भी पशु तस्करी का धंधा रुक नहीं पा रहा है. ट्यूजडे को सुभाषनगर और मीरगंज में पशु तस्करी का मामला पकड़ में आया है. सुभाषनगर में गोवंशीय पशुओं को नशीला इंजेक्शन लगाकर ले जाया जा रहा था. वहीं मीरगंज में घर के अंदर गोवंशीय पशुओं का कटान हो रहा था. पुलिस ने तीन पशु तस्करों को गिरफ्तार किया है.

बेहोशी की हालत में मिले पशु

ट्यूजडे सुबह बदायूं रोड करगैना पुलिस चौकी के पास तीन गोवंशीय घायल अवस्था में मिले. पुलिस कर्मियों ने पीएफए के सचिव सतीश यादव व धीरज पाठक आदि को बुलाया. सभी गौवंशीय पशु नशे की हालत में थे. उनके पैरों की हड्डी टूटी हुई थी. सतीश यादव ने बताया कि रात में तस्करों ने नशे के इंजेक्शन देकर पशुओं को ले जाने की कोशिश की होगी. अज्ञात वाहनों ने इन्हें टक्कर मार दी. नशे का इंजेक्शन लगने पर एक गाय ने बच्चे को जन्म दिया. लेकिन बच्चे को कुत्ते व अन्य जानवर ले गए. वह सड़क पर बेहोश पड़ी थी. तीनों जानवरों को चौबारी में पशुओं के शेल्टर होम में भेजा गया. यहां उनका उपचार किया गया.

पशु तस्करों ने पुलिस पर की फायरिंग

मीरगंज के नगरिया सादात में गोवंश का वध करते तीन तस्करों को पुलिस ने दबोच लिया. जबकि एक महिला समेत तीन अन्य पुलिस को चकमा देकर फरार हो गए. यही नहीं पशु तस्करों ने तमंचे से पुलिस पर फायरिंग भी कर दी. पशु तस्करी फईम के घर हो रही थी. पुलिस ने मौके वसीम, शाहिद, और फईम को गिरफ्तार कर लिया है. पशु चिकित्साधिकारी डा केके पाठक को बुलाकर बरामद मांस की जांच कराई. पुलिस ने तीनों को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया है.