देहरादून.

सोशल साइट्स पर लोगों का दायरा इतना आगे बढ़ चुका है कि अब अपने ही अपनों की जासूसी करा रहे हैं. दून में इस तरह के कई केस सामने आ चुके हैं, कुछ संस्थाएं साइबर जासूसी का काम कर रही हैं और इसके लिए मोटी रकम भी ले रही हैं. ऐसे केसेज के सामने आने से रिश्ते दरक रहे हैं और सामाजिक ताना-बाना भी प्रभावित हो रहा है.

--

अपनों की करा रहे जासूसी

कहीं पति-पत्‍‌नी को एक-दूसरे पर शक है तो कहीं पैरेंटस बच्चों के बदलते बर्ताव से परेशान हैं. किसी को बेटी की शादी से पहले लड़के की पड़ताल करवानी है. ये सभी लोग ऑनलाइन जासूसी करने वाली संस्थाओं के पास पहुंच जा रहे हैं. जहां एक्सप‌र्ट्स की मदद से जानकारी जुटाई जा रही है.

--

फेसबुक के साथ फोन की भी निगरानी

एक्सप‌र्ट्स की मदद से लोग न सिर्फ फेसबुक बल्कि फोन पर भी नजर रख रहे हैं. फोन के पासवर्ड का तोड़ जान ले रहे हैं. खासकर पैरेंट्स बच्चों की निगरानी के लिए स्मार्ट फोन चलाना, उनके पासवर्ड संबंधी जानकारी जुटा रहे हैं.

--

बनाए हैं पैकेज

साइबर एक्सप‌र्ट्स ने मामले के अनुसार अपने प्राइस पैकेज तय किए हैं. पैकेजेज पर नजर डाली जाए तो इसमें एक्सट्रा मैरीटल अफेयर की पड़ताल के लिए सबसे ज्यादा फीस ली जा रही है, ये 50 हजार रुपए तक है. चाइल्ड मॉनिटरिंग के लिए सबसे कम फीस ली जाती है. जबकि कॉरपोरेट साइबर केसेज की पड़ताल के लिए एक लाख रुपए तक लिए जा रहे हैं.

--

ये है प्राइस पैकेज

प्री मैरिटल अफेयर्स वेरीफिकेशंस- 30 हजार

एक्सट्रा मैरीटल अफेयर- 50 हजार से एक लाख तक

चाइल्ड मॉनिटरिंग बाई पैरेंटस- 15 हजार

साइबर डिफेमेशन- 15 हजार

साइबर बुलिंग, हरासमेंट- 7 हजार

सस्पेक्टेड ट्रेकिंग- 35 हजार

इंप्लॉय बैकग्राउंड वेरीफिकेशन- 8 हजार

कॉरपोरेट साइबर केसेज, डाटा थेफ्ट, इंप्लॉई डाटा लीक- एक लाख

--

ऐसे-ऐसे केसेज

सिंगापुर से कराई पत्‍‌नी की जासूसी

सिंगापुर मर्चेट नेवी के एक अफसर को दून में रहने वाली अपनी पत्‍‌नी पर शक था कि उसका कहीं अफेयर है. वो जब भी इस बारे में पत्‍‌नी से बात करता तो वह बात करने को तैयार ही नहीं होती थी. ऐसे में उसने साइबर एक्सप‌र्ट्स की हेल्प ली. आखिरकार तहकीकात हुई तो पता चला कि पत्‍‌नी का एक व्यक्ति से अफेयर था.

--

बेटी की कराई जासूसी

बंजारावाला निवासी एक पैरेंटस ने अपनी बेटी की जासूसी करवाई. दरअसल बेटी किसी लड़के के साथ डेट कर रही थी और इसके लिए वह स्टडी के लिए फ्रैंड के घर रुकने की बात कहकर अक्सर रात को चली जाती थी. पैरेंटस ने जब फ्रैंड से पूछा तो उन्होंने बताया कि वह उनके घर नहीं आती. इसके बाद फेसबुक के जरिए बेटी की जासूसी की तो हकीकत पता चली. इसके बाद लड़के के बारे में भी जानकारी जुटाई और सबूतों के साथ बेटी को समझाया कि ये लड़का और भी कई लड़कियों के साथ डेट कर रहा है.

-

लड़की को तहकीकात करवाना पड़ा महंगा

दून के एक लड़के की शादी मुंबई की लड़की से फिक्स हुई. लड़की ने यहां एक संस्था को लड़के की जासूसी का काम दिया. उन्होंने लड़के की ऑनलाइन जासूसी की तो पता चला कि लड़के की एक गर्लफ्रैंड है, हालांकि लड़का उससे धीरे-धीरे दूर हो रहा था और यही कहता था कि ये रिश्ता अब आगे नहीं चल पाएगा क्योंकि उसकी शादी होने वाली है. साइबर एक्सप‌र्ट्स को जब लड़का सही लगा तो उन्होंने लड़की की ही जासूसी कर दी. वो लड़की एक साथ पांच लड़कों के साथ डेटिंग कर रही थी और उसने एक को भी अपनी शादी की बात नहीं बताई थी. टीम ने यह रिकॉर्ड लड़के को दिखाए और रिश्ता टूट गया.

--

सोशल साइट्स से परिवार वाकई में दरक रहे हैं. लोग परिवार के साथ रहते हुए भी सोशल साइट्स पर बिजी रहते हैं. ऐसे कई केसेज हमारे पास आते हैं.

- अंकुर चंद्रकांत, संस्थापक, ई-प्रोटेक्ट फाउंडेशन