- नया सॉफ्टवेयर लोड होने से सर्विस पड़ा ठप

- 18 से नए वाहनों का शुरू हो सकेगा रजिस्ट्रेशन

<- नया सॉफ्टवेयर लोड होने से सर्विस पड़ा ठप

- क्8 से नए वाहनों का शुरू हो सकेगा रजिस्ट्रेशन

BAREILLY:

BAREILLY:

आरटीओ में नए वाहनों का रजिस्ट्रेशन ट्यूजडे से एक हफ्ते के लिए बंद कर दिया गया है. इस बीच वाहनों के टैक्स भी जमा नहीं हो सकेंगे. दरअसल, ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट ऑनलाइन सुविधा शुरू करने के लिए सॉफ्टवेयर वाहन-ब् लोड कर रहा है. नया सॉफ्टवेयर लोड किए जाने के चलते सिस्टम बंद पड़ गए हैं. आरटीओ में सिर्फ ड्राइविंग लाइसेंस बनाए जाने का काम जारी है. नई व्यवस्था शुरू होने के बाद सारा डाटा सेंट्रलाइज्ड हो जाएगा. इसके बाद देश में कहीं से भी वाहनों के रजिस्ट्रेशन और ऑनलाइन टैक्स जमा हो सकेगा.

सेंट्रलाइज्ड हाे रहा डाटा

ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट की ओर से नया सॉफ्टवेयर वाहन-ब् लोड करने का काम लखनऊ मुख्यालय से शुरू हो गया है, जिसकी वजह से पूरे प्रदेश के आरटीओ ऑफिस का सर्विस ठप पड़ गया है. इसी वजह से बरेली आरटीओ में भी ट्यूजडे को कामकाज ठप रहा. वहीं दो पहिया और चार पहिया नए वाहनों का रजिस्ट्रेशन भी नहीं हो सका. जबकि, सामान्य दिनों में रोजाना ख्00 से ख्भ्0 नए वाहनों का रजिस्ट्रेशन आरटीओ में होता है. हालांकि, लर्निग और परमानेंट लाइसेंस बनाए जाने का काम प्रभावित नहीं है. अधिकारियों ने बताया कि सॉफ्टवेयर लोड करने का काम क्भ् से क्म् फरवरी तक चलेगा. उसके बाद क्8 से नए वाहनों की रजिस्ट्रेशन की एंट्री शुरू की जाएगी. वहीं टैक्स जमा करने का काम क्भ् फरवरी से शुरू होने की उम्मीद हैं.

मैनुअल व ऑनलाइन होंगे काम

अधिकारियों की मानें तो नए सॉफ्टवेयर पर काम शुरू होने के बाद पुराने सिस्टम पर जमा फीसद और टैक्स रसीद नए सॉफ्टवेयर पर प्रदर्शित नहीं होगी. ऐसे में वाहन संबंधी कार्य कराते समय अपना मोबाइल नंबर अवश्य लिखें, जिससे किसी तरह की सूचना से अवगत कराया जा सके. नई व्यवस्था से एक फायदा यह होगा कि आरटीओ में मैन्युअल और ऑनलाइन दोनों तरह की सुविधाएं मिलने लगेंगी. अभी तक वाहन-क् सॉफ्टवेयर पर काम हो रहा था. इस पर ऑनलाइन सुविधा नहीं मिल पाती थी. वाहन-ब् सॉफ्टवेयर लागू होते ही घर बैठे टैक्स जमा किया जा सकेगा. रजिस्ट्रेशन, अस्थाई परमिट आदि के लिए भी ऑनलाइन सुविधा मिलेगी.

नए सॉफ्टवेयर लोड करने का काम मुख्यालय में चल रहा है. जिसकी वजह से सर्वर ठप पड़ गए हैं. नए सॉफ्टवेयर पर काम होने के बाद आरटीओ का सारा डाटा सेंट्रलाइज्ड हो जाएगा. नई व्यवस्था क्8 से शुरू कर दी जाएगी.

आरपी सिंह, एआरटीओ प्रशासन