इलाहाबाद जंक्शन के प्लेटफॉर्म शेड पर लगाए जा रहे हैं सोलर पैनल

होगी बिजली की बचत, सौर उर्जा से जगमग होगा स्टेशन

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: सौर ऊर्जा से बिजली बनाने के लिए देश में जहां जगह-जगह पॉवर प्लांट लगाए जा रहे हैं. मिर्जापुर के गैपुरा में एशिया का सबसे बड़ा सौर ऊर्जा पॉवर प्लांट स्थापित किया जा चुका है, वहीं सौर ऊर्जा से बिजली उत्पादन में रेलवे भी पीछे नहीं है. जल्द ही इलाहाबाद जंक्शन के साथ ही इलाहाबाद मंडल के अन्य स्टेशनों के प्लेटफार्म शेड से बिजली निकलेगी. इससे प्लेटफार्म रौशन होंगे.

प्लेटफार्म सात-आठ से शुरूआत

इलाहाबाद जंक्शन के सभी प्लेटफार्म अभी तक रेलवे को मिलने वाली बिजली से रौशन होते हैं. इसके बदले में रेलवे को लंबा चौड़ा बिल देना पड़ता है. जल्द ही जंक्शन के सभी प्लेटफार्म सौर ऊर्जा से जगमग होंगे. इसके बदले में रेलवे को बिजली का बिल नहीं देना पड़ेगा. इसकी शुरुआत इलाहाबाद जंक्शन के प्लेटफार्म नंबर सात-आठ से की जा रही है. प्लेटफार्म नंबर सात-आठ के शेड पर रेलवे द्वारा सोलर पैनल लगवाया जा रहा है. ताकि सौर ऊर्जा का उत्पादन किया जा सके.

इलाहाबाद मंडल द्वारा विभिन्न स्टेशनों व भवनों की छतों पर 2.7 मेगावाट की क्षमता का सौर ऊर्जा संयत्र स्थापित करने का लक्ष्य निर्धारित है. इसके तहत इलाहाबाद स्टेशन पर 683 किलोवाट क्षमता का सोलर पैनल प्लेटफार्म के शेड पर लगाया जा रहा है. इससे करीब 11 लाख 21 हजार यूनिट बिजली प्रति वर्ष उत्पन्न होगी. 32 लाख 73 हजार रुपये प्रति वर्ष रेल राजस्व की बचत होगी.

एक करोड़ 29 लाख की बचत

इलाहाबाद रेलवे स्टेशन के भवन पर 166 किलोवाट क्षमता के सोलर पैनल लगाए गए हैं. सौर ऊर्जा संयत्र से करीब दो लाख, 72 हजार 655 यूनिट बिजली प्रति वर्ष उत्पन्न हो रही है. चार लाख 90 हजार रुपये के राजस्व की प्रति वर्ष बचत हो रही है. 2.7 मेगावाट क्षमता का सौर ऊर्जा संयत्र स्थापित हो जाने के बाद प्रति वर्ष 44 लाख 34 हजार यूनिट बिजली उत्पन्न होगी. इससे प्रति वर्ष एक करोड़ 29 लाख रुपये रेल राजस्व की बचत होगी.

फैक्ट फाइल

16

लाख यूनिट बिजली उत्पन्न हो रही है सौर ऊर्जा से प्रति वर्ष अब तक

266

किलोवाट का सौर ऊर्जा पीक लग चुका है जीएम एनसीआर कार्यालय भवन पर

150

किलोवाट का सौर ऊर्जा पीक

लगा है डीआरएम इलाहाबाद के कार्यालय भवन पर

166

किलोवाट का सौर ऊर्जा पीक लग चुका है इलाहाबाद रेलवे स्टेशन भवन पर

349 किलोवाट क्षमता का पीक लगा है विद्युत लोको शेड कानपुर पर

100

किलोवाट क्षमता का पीक लगा है कानपुर रेलवे स्टेशन पर

16.42

लाख यूनिट बिजली प्रति वर्ष उत्पन्न हो रही अब तक सौर ऊर्जा संयंत्रों के स्थापित होने से

30

लाख रुपये प्रति वर्ष रेल राजस्व की बचत हो रही

एनसीआर के साथ ही इलाहाबाद मंडल का पूरा फोकस सौर ऊर्जा उत्पादन पर है. इससे बिजली की बचत के साथ ही खर्च में भी कमी आएगी. इलाहाबाद मंडल के स्टेशनों व भवनों पर 2.7 मेगावाट का सौर ऊर्जा प्लांट स्थापित करने का अभियान चल रहा है, जो जल्द पूरा होगा.

सुनील कुमार गुप्ता

पीआरओ, इलाहाबाद मंडल