सोलर लाइट लगाने वाली पहली यूनिवर्सिटी बनी सीसीएस

Meerut . सीसीएसयू अब सोलर लाइट की रोशनी से चकाचौंध होगा. कैंपस में उजियारा करने के लिए यहां पहला सोलर एनर्जी प्लांट लगाया गया है. खास बात यह है कि सीसीएसयू सोलर एनर्जी का प्रयोग करने वाली पहली यूनिवर्सिटी बनने जा रही है. इसका उद्घाटन आज यानि गुरूवार को राज्यपाल रामनाईक और उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा करेंगे.

सौर ऊर्जा प्रोजेक्ट से हर साल कई करोड़ रूपये की बचत होगी. इस बचत से यूनिवर्सिटी के अन्य कार्यो में खर्च किया जा सकता है.

डॉ. प्रशांत कुमार, प्रेस प्रवक्ता, सीसीएसयू

सोलर प्लांट से सीसीएसयू में होगी बिजली आपूर्ति

- 1480 किलोवाट का सोलर एनर्जी प्लांट सीसीएसयू में लगवाया गया है

- 1400 किलोवाट के करीब होता है बिजली का यूज

- 4 करोड़ रूपये सालाना बिजली बिल का होता है भुगतान

- 2 करोड़ से ज्यादा रूपये सोलर एनर्जी प्लांट के यूज से बचेंगे

- 7.70 रूपये प्रति यूनिट का बिजली खर्च अभी यूनिवर्सिटी का है

- 3.90 रुपये प्रति यूनिट पर सौर ऊर्जा प्लांट के जरिए मिलेगी बिजली

- 860 किलोवाट का सौर ऊर्जा प्लांट पहले फेज में शुरू होगा.

- 222 एकड़ में है सीसीएसयू का क्षेत्रफल

- 6 से ज्यादा ब्लॉकों में सोलर पैनल लगाए गए हैं, जिसमें प्रशासनिक ब्लाक भी शामिल है

- 402000 करीब यूनिट हर महीने खर्च होती है

- सोलर पैनल के लिए नहीं देना होगा सीसीएसयू को खर्चा

- सीसीएसयू में जल्द ही इनर्वटर बैट्री और एलईडी लाइट भी लगेगी

बृहस्पति भवन में होगा कार्यक्रम

मेरठ. स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा का अनावरण और सोलर एनर्जी प्लांट के उद्घाटन के लिए सीसीएस यूनिवर्सिटी में आज राज्यपाल रामनाईक और उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा पहुंचेंगे. सुबह 9. 30 बजे वह कार्यक्रम में पहुंचेंगे. इस दौरान वह शहीद धन सिंह कोतवाल की प्रतिमा का भी अनावरण भी करेंगे. इसके बाद दोनों का उद्बोधन होगा. राज्यपाल और उपमुख्य मंत्री को एसी की दिक्कत न हो इसके लिए इस बार सीसीएसयू ने कार्यक्रम का आयोजन सुभाष चंद्र प्रेक्षागृह में न रखकर बृहस्पति भवन में आयोजित कराया है. शिक्षकों के कार्यक्रम में कुछ दिन पहले आएं उपमुख्यमंत्री ने सुभाष चंद्र प्रेक्षागृह में गर्मी अधिक होने की वजह से वीसी को वहां एसी लगवाने की नसीहत दी थी. कार्यक्रम को लेकर सीसीएसयू की ओर से सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं.