-नौसढ़ के सेंटर पर एग्जाम देने में पकड़े गए थे संदिग्ध

-पुलिस ने कोर्ट में पेश किया, जेल गए दोनों अभियुक्त
Gorakhpur@inext.co.in
GORAKHPUR: बेलीपार, नौसड़ के स्वास्तिक एग्जामनेशन सेंटर पर यूपीपीसीएल (उत्तर प्रदेश पावर कार्पोरेशन लिमिटेड) की ऑनलाइन परीक्षा में पकड़े गए युवक जेल भेजे गए. शुक्रवार को पुलिस ने सभी को कोर्ट में पेश किया. न्यायिक अभिरक्षा में लेते हुए कोर्ट ने उनको जेल भेजने का आदेश दिया. रैकेट से जुड़े अन्य लोगों की तलाश में पुलिस जुटी है. पुलिस का मानना है कि इस घटना के तार अन्य परीक्षाओं से जुड़ने की संभावना है. सेंटर संचालक के खिलाफ भी पुलिस को तहरीर दी गई है.

नौसढ़ के कंप्यूटर सेंटर पर मिली थी गड़बड़ी
गुरुवार को यूपी पॉवर कारपोरेशन की आनलाइन परीक्षा का आयोजन शहर में हुआ था. नौसढ़ के एक परीक्षा केंद्र पर सुबह नौ बजे से दोपहर 12 बजे तक एग्जाम चल रहा था. तभी पुलिस को सूचना मिली कि सेंटर पर सॉल्वर एग्जाम दे रहे हैं. पुलिस की जंाच में दो संदिग्ध पकड़े गए. नौसढ़ चौकी प्रभारी अक्षय कुमार मिश्रा की पूछताछ में पता लगा किबस्ती जिले के कोतवाली, पक्का बाजार निवासी अलमास की जगह छपरा के मुफसिल के कुलदीनगर निवासी रोशन कुमार एग्जाम दे रहा था. जबकि, दूसरे अभ्यर्थी कैंट थानाक्षेत्र के बेतियाहाता निवासी दिलीप कुमार वर्मा जगह पटना के मुस्सलफुर, मुस्सफकपुर का राजीव कुमार परीक्षा में बैठा था. एग्जाम देने के लिए उनको 15 हजार रुपए में तय किया गया था. मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने सॉल्वर और असली परीक्षार्थियोंको कोर्ट में पेश किया. कोर्ट ने चारों अभियुक्तों को जेल भेजने का आदेश दिया. उधर एग्जाम दिलाने वाली नोडल एजेंसी के अधिकारियों ने केंद्र व्यवस्थापक के खिलाफ तहरीर देकर कार्रवाई की मांग उठाई. कहा कि इसमें सेंटर संचालक की मिलीभगत की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है.

मुकदमे की विवेचना की जा रही है. इसमें जो भी तथ्य सामने आएंगे. उनके आधार पर मुकदमे की धारा बढ़ा दी जाएगी. इससे जुड़े अन्य लोगों की तलाश की जा रही है.
ज्ञान प्रकाश चतुर्वेदी, एसपी साउथ