ऐसे करते हैं कारनामा
इनके पहले पोज़ में जाना को जोर्ग ने कुछ इस तरह से पेंट किया है कि वो खुद एक ऐसी मूर्ति लग रही है, जिसमें कई दरारें आ चुकी हैं। इनको पेंट करने के बाद डोर-टू-डोर फ्रेम का लुक देने के लिए इन्‍हें गेट के ऊपर ऐसे अंदाज में लिटाया गया है कि ये इस दरवाजे वाले पूरे फ्रेम का हिस्‍सा लग रही हैं।

श्‍श्‍श्‍‍...श! यहां कोई है,मॉडल को सफाई से किया पेंट,बताइए कहां छिपी है वो?
 
देखिए, दूसरा पोज़
वहीं दूसरे पोज़ में ट्वायलट में बैठकर पेपर पढ़ रहा ये व्‍यक्ति नहीं जानता कि उसके दरवाजे के पीछे कोई है। ये कमाल भी जोर्ग का है। उन्‍होंने अपनी मॉडल को दरवाजे के साथ ऐसे पेंट किया है कि वो दरवाजे का ही हिस्‍सा लग रही है।

श्‍श्‍श्‍‍...श! यहां कोई है,मॉडल को सफाई से किया पेंट,बताइए कहां छिपी है वो?

यहां भी हैं ये
मॉडल को एक लोहे के गेट की तरह दिखने के लिए उसे इस तरह से पेंट किया गया है कि कोई भी इसे अचानक से देखकर चौंक जाए। बॉडीपेंट कलाकार जोर्ग के लिए ये नया नहीं है। बल्कि बीते 20 सालों से वह इस तरह की पेंटिंग्‍स का निर्माण कर रहे हैं।

श्‍श्‍श्‍‍...श! यहां कोई है,मॉडल को सफाई से किया पेंट,बताइए कहां छिपी है वो?

नहीं छोड़ी कोई कसर
शरीर के पेंट में पूरी तरह से छिपी जाना ने भी जोर्ग की पेंटिंग्‍स को वा‍स्‍तविक रूप देने में कोई कसर नहीं छोड़ी। उन्‍होंने भी वुडलैंड और लोकल हाउस पर ऐसे पोज़ दिए कि वो एकदम वास्‍तविक पेंटिंग ही लग रही हैं। इनकी कई तस्‍वीरों में पूरी तरह से नग्‍न शरीर पर सटीक डिजाइन के साथ पेंटिंग की गई है। इससे ये जानना थोड़ा और मुश्किल हो रहा है कि वो वाकई कहां है। जोर्ग बीते 20 सालों से ऐसे बॉडी आर्ट प्रोजेक्‍ट्स बना रहे हैं। वो इनका इस्‍तेमाल विज्ञापन, कॉर्पोरेट इवेंट्स और टीवी मार्केटिंग कैम्‍पेन्‍स में शामिल करने के लिए करते हैं।

करते हैं ऐसे कई कारनामे
इनके कामों को कई आर्ट मैग्‍ज़ीन्‍स में प्रमुखता के साथ शामिल किया गया है। 2008 में नेशनल कॉम्‍पटीशन में इनको जर्मन ब्रश पेंटिंग चैम्पियन का नाम दिया गया। उनके इस तरह के फोटो शूट को पूरा करने में उन्‍हें कई घंटों का समय लगता है। उसके साथ ही लोकेशन पर जाकर मॉडल के साथ कई तरह के प्‍लान्‍स भी बनाने पड़ते हैं। इतनी मशक्‍कत करने के बाद जोर्ग ने मॉडल को पहले से पेंट करके पेड़-पौधों और हरियाली के बीच दरवाजे के ऊपर ऐसे सजाया है कि देखने वाले के लिए ये अंदाजा लगाना मुश्किल होगा कि आखिर मॉडल जिंदा है कि मूर्ति है। इस तरह से जोर्ग मॉडल्‍स को कार गैराज, म्‍यूजिक शॉप और फ‍िशिंग पोर्ट के लिए तैयार करते हैं।

Courtesy by Mail Online

Hindi News from Bizarre News Desk