धोखेबाज बेटे से खफा हैं गंगा मइया

-सपा-बसपा गठबंधन की संयुक्त रैली में सपा प्रमुख अखिलेश यादव व बसपा सुप्रीमो मायावती ने नरेंद्र मोदी पर बोला जुबानी हमला

-बोले, गंगा मइया यदि आशीर्वाद दे सकती हैं तो रूठने पर आशीर्वाद वापस भी ले सकती हैं।

बनारस से चुनाव जीतने के बाद मोदी ने कसम खाई थी कि हम मां गंगा को अविरल व निर्मल बनाएंगे। करोड़ों रुपये खर्च के बाद भी मां गंगा की तबियत ठीक नहीं कर पाने वाले ऐसे बेटे से बनारस की जनता को अबकी बार आगाह रहना चाहिए। पीएम नरेन्द्र मोदी पर यह तंज कसा समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव व बसपा सुप्रीमो मायावती ने। गुरुवार को संत रविदास की जन्मस्थली सीर गोवर्धन में सपा-बसपा गठबंधन की आयोजित रैली को संबोधित करने पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्रियों ने कहा कि च्वच्छ काशी सुंदर काशी का सब्जबाग दिखाने वाले मोदी से मां गंगा मइया भी खफा है। दोनों नेताओं ने यह भी तंज कसा कि गंगा मइया यदि आशीर्वाद दे सकती हैं तो रूठने पर आशीर्वाद वापस भी ले सकती हैं।

बुजुर्गो का नहीं सम्मान

बनारस, चंदौली व मिर्जापुर के गठबंधन प्रत्याशियों के पक्ष में महौल बनाने पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि बनारस को क्योटो शहर बनाने का सपना दिखाने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संसदीय क्षेत्रवासियों को सिर्फ धोखा दिया है। दक्षिणी के पूर्व विधायक श्यामदेव राय चौधरी का नाम लिए बगैर अखिलेश यादव ने कहा कि हमारी सरकार थी तो यही के बुजुर्ग विधायक बिजली के लिए अनशन पर बैठे थे। तत्कालीन डीएम-एसएसपी ने हमें बताया कि बुजुर्ग विधायक की उम्र अधिक है, सांस भी अटक सकती है। तब हमने उन्हें लखनऊ बुलाया और बातें सुनने के बाद 24 घंटे बनारस को बिजली दी। इनकी पार्टी में बुजुर्ग नेताओं का हाल क्या होता है, इसी से अंदाजा लगा सकते है कि जिसने काशी को बिजली दिलाई भाजपा ने उनका ही टिकट काट दिया।

गुरु-चेला की विदाई की बेला आई

रैली को सम्बोधित करते हुए बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि कांग्रेस व भाजपा की नीति एक है। दोनों सिर्फ सत्ता की लालच में दलितों और पिछड़ों को छलने में लगे हैं। कांग्रेस के घोषणापत्र में गरीबों को 6000 प्रतिमाह देने के वादे पर मायावती ने कहा कि हम सत्ता में लौटे तो गरीबों को 6000 नहीं देंगे बल्कि सरकारी व अर्धसरकारी नौकरियां देंगे। नरेंद्र मोदी पर हमलावर होते हुए कहा कि माताओं, बहनों का सम्मान-आदर करने का ढोंग रचने वाले पीएम पहले यह बताएं कि अपनी पत्‍‌नी को क्यों छोड़ दिए, बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर क्यों अत्याचार कर रहे हैं। मोदी-शाह पर तंज कसते हुए कहा कि महागठबंधन की ताकत और जनता का प्यार देख गुरु-चेले के चेहरे लटक गए हैं। पराजय का इतना भय सता रहा है कि गठबंधन को यह सांप, च्बच्छू और नेवला तक कह रहे हैं।

ये रहे मौजूद

मंच पर राष्ट्रीय लोकदल के प्रमुख चौधरी अजीत सिंह, बसपा महासचिव सतीशचंद्र मिश्रा, युवा बसपा अध्यक्ष आकाश आनंद, बनारस की प्रत्याशी शालिनी यादव, चंदौली के प्रत्याशी संजय चौहान, मिर्जापुर के प्रत्याशी रामचरित्र निषाद, बीएसफ बर्खास्त जवान तेजबहादुर यादव, बनारस जिलाध्यक्ष डॉ। पीयूष यादव, महानगर अध्यक्ष राजकुमार जायसवाल आदि रहे।