फिर शुरू हुई स्‍पाइसजेट की फ्लाइट्स
स्‍पाइसजेट द्वारा तेल विपणन कंपनियों को तीन करोड़ रुपये का आंशिक पेमेंट किए जाने के बाद से स्‍पाइसजेट की ईधन आपूर्ति शुरू हो गई है. गौरतलब है कि नकदी समस्‍या से जूझ रही स्‍पाइसजेट को तेल विपणन कंपनियों द्वारा ईधन आपूर्ति बंद किए जाने से कंपनी की 150 फ्लाइट्स प्रभावित हुईं थीं. इस मामले में एयरपोर्ट सूत्रों ने कहा ''अब तक परिचालन पहले से तय समयसारणी के मुताबिक चल रहा है.'' उल्‍लेखनीय है कि आज सुबह 10 बजे तक दिल्ली से मुंबई, जयपुर, पोर्ट ब्लेयर, कोच्चि और वाराणसी के लिए पांच स्‍पाइसजेट फ्लाइट्स ने उड़ानें भरी हैं.

दस घंटे बंद रहीं उड़ानें
स्‍पाइसजेट के नकदी संकट की वजह से करीब दस घंटों तक कंपनी की सेवाएं रुकी रहीं. हालांकि कंपनी ने 243 लिस्‍टेड फ्लाइट्स में से 75 फ्लाइट्स के उड़ान भरने की बात कही है. इसके साथ ही स्‍पाइसजेट प्रमोटर अजय सिंह ने नागर विमानन सचिव वी सोमसुंदरम से मुलाकात की. इस मुलाकात से प्रमोटर द्वारा एक बार फिर कंपनी में इंवेस्‍टमेंट किए जाने के कयास लगाए जा रहे है. हालांकि निवेश के संबंध में सवाल पूछे जाने पर स्‍पाइसजेट के प्रमोटर ने सिर्फ यह जबाव दिया कि स्‍पाइसजेट में काफी पोटेंशियल है. इसके साथ ही स्‍पाइसजेट की बेस कंपनी सन समूह के फाइनेंशियल ऑफिसर एस एल नारायणन ने कहा,'हमें थोडी गुंजाइश चाहिए. यदि हमें बैंकों से थोड़ा समय मिलता है और कलानिधि मारन गारंटी देने के लिए तैयार हो जाते हैं तो हम फिर से सामान्य तौर पर काम-काज कर सकते हैं. संकलन होने पर हम भुगतान करने लगेंगे.''

चाहिए था 15 दिनों का उधार

एस एल नारायणन ने कहा कि कलानिधि मारन ने पिछले तीन सालों में 820 करोड़ रुपये का इंवेस्‍टमेंट किया है और कंपनी को धन की जरूरत पड़ने पर उन्‍होंने इंवेस्‍टमेंट किया है. इसके साथ ही उन्‍होंने कहा कि नागर विमानन मंत्रालय ने उन्‍हें 30 दिन से अधिक की एडवांस बुकिंग की आजादी नहीं दी. इससे कंपनी का खासा नुकसान हुआ. इसके साथ ही कंपनी ने तेल कंपनियों और एयरपोर्ट ऑपरेटर्स से 15 दिनों की मोहलत मांगी थी जिससे स्‍पाइसजेट को बंद होने से रो‍का जा सके. उल्‍लेखनीय है कि नागर विमानन मंत्रालय ने इस मामले में इस शर्त पर हस्‍तक्षेप किया है कि कंपनी जल्‍द से जल्‍द पूंजी डालेगी और अपने 2000 करोड़ रुपये के बकाए को पूरा करने का कमिटमेंट दिखाएगी.

Hindi News from Business News Desk

Business News inextlive from Business News Desk