देश के तीर्थस्थलों पर बढ़ा श्रद्घालुआें का आगमन
मुंबर्इ (पीटीआर्इ)।
अध्यात्म के अलख ने देश के तीर्थस्थलों पर श्रद्घालुआें के आगमन को बढ़ा दिया है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, उत्तर प्रदेश में वाराणसी आैर आेडिशा में पुरी तीर्थयात्रियों के पसंदीदा डेस्टिनेशन बनकर सामने आए हैं। ट्रैवल मार्केटप्लेस आर्इएक्सआर्इगो ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि महीने दर महीने होटलों की बुकिंग देखें तो पुरी में 60 प्रतिशत, वाराणसी में 48 प्रतिशत, आंध्रप्रदेश के तिरुपति में 34 प्रतिशत, आैर महाराष्ट्र के सिरडी में 19 प्रतिशत  की बढ़ोतरी दर्ज की गर्इ है। यह रिपोर्ट आर्इएक्सआर्इगो पर इस गर्मी होटलों की बुकिंग आैर सर्च के आधार पर तैयार की गर्इ है।

तीर्थ के लिए सबसे ज्यादा ट्रेन सर्च लखनऊ से
आर्इएक्सआर्इगो के सीर्इआे एवं सह संस्थापक आलोक बाजपेयी ने कहा कि होटलों की बुकिंग जिस तरह से बढ़ रही है, उससे हम कह सकते हैं कि भारत में तीर्थाटन एक आॅफबीट पर्यटन के प्रचलन के तौर पर उभर रहा है। तीर्थयात्रा के लिए सबसे ज्यादा ट्रेन सर्च लखनऊ से की गर्इ। यहां से करीब 13 प्रतिशत ट्रेनें एेसे धार्मिक स्थलों के लिए लोगों ने सर्च की। देश में इसके बाद मुंबर्इ का नंबर रहा, जहां 7 प्रतिशत लोगों ने धार्मिक स्थानों लिए ट्रेन सर्च किया। इस सूची में 6 प्रतिशत के साथ हैदराबाद का तीसरा नंबर रहा।

तीर्थाटन मामले में दिल्ली रहा चौथे नंबर पर
धार्मिक स्थानों के लिए ट्रेन सर्च में दिल्ली का नंबर चौथा रहा। यहां 5 प्रतिशत लोगों ने तीर्थाटन के लिए ट्रेन सर्च किया। बाजपेयी के अनुसार, स्प्रिचुअल टूरिज्म देश में अब तक अनछुआ रहा है। इसमें बहुत स्कोप है। देश में यात्रा का करीब 60 प्रतिशत पर्यटन तीर्थयात्रा से संबंधित होता है। उन्होंने कहा कि सरकार ने इस सेक्टर में सहयोग के लिए बजट का प्रावधान किया है ताकि धार्मिक स्थलों पर आधारभूत ढांचा खड़ा करने में मदद मिल सके। तीर्थाटन बढ़ाने के लिए सरकार नर्इ परियोजनाएं ला रही है, धार्मिक सर्किट विकसित कर रही है आैर ट्रेन रूट बनाने पर तेजी से काम कर रही है।

गोवा के पयर्टन स्‍थल घूमना होगा और आसान, सरकार शुरू करेगी ऐप बेस्‍ड टैक्‍सी सर्व‍िस

रांची में बढ़ रहा कॉरपोरेट टूरिज्म, एक साल में 15 परसेंट का इजाफा

Business News inextlive from Business News Desk