शहर काजी ने चांद दिखने की नहीं की पुष्टि

देवबंदी समुदाय ने की पुष्टि, कई मस्जिदों में हुई तरावीह

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: चांद दिखने को लेकर बुधवार को देर रात तक असमंजस की स्थिति बनी रही. शहर काजी ने देर शाम चौक जामा मस्जिद से चांद न दिखने के चलते पवित्र माह-ए-रमजान की शुरुआत शुक्रवार से होने की घोषणा की तो रात करीब साढ़े आठ बजे मस्जिद वसीउल्ला में मरकजी रूयते हिलाल कमेटी ने चांद दिखने की पुष्टि कर दी. इससे देवबंद समुदाय की मस्जिदों में रात में ही तरावीह शुरू हो गयी यानी गुरुवार को पहला रोजा रखा जाएगा. वैसे इसे लेकर देर रात तक चर्चाएं चलती रहीं.

सज गया बाजार, खरीदारी शुरू

चांद का दीदार होने की संभावना बुधवार को थी. इस स्थिति में गुरुवार से रोजा शुरू होना था. इसके लिए मुस्लिम बंधु शाम से ही चांद देखने की कोशिशों में लग गये. वैसे बुधवार को 29 का चांद दिखना था. ऐसा न होने पर गुरुवार को 30 का चांद मान लिया जाता और शुक्रवार से रोजे की शुरुआत हो जाती. 29 के ऐतबार से रमजान-उल-मुबारक के चांद पर देवबंद और बरेलवी तबके में सहमति नहीं हो सकी. चौक जामा मस्जिद से चांद का ऐलान नहीं किया गया. जबकि मस्जिद शाह वसीउल्ला से रात साढ़े आठ बजे चांद की तस्दीक का ऐलान किया गया. चांद की तस्दीक के साथ ही देवबंद मसलक से जुड़ी मस्जिदों में तरावीह का सिलसिला शुरू हो गया.

चांद की तस्दीक हो गई है. लखनऊ सहित जिले के आस-पास के क्षेत्रों में चांद की पुष्टि की गयी है. देवबंद मसलक के लोग गुरुवार से पहला रोजा रखेंगे.

डा. अहमद मकीन

सचिव, मस्जिद शाह वसी उल्ला की मरकजी मजलिस ए रूयते हिलाल कमेटी कमेटी

आज चांद दिखने की पुष्टि कहीं नहीं हुई है. गुरुवार से तरावीह शुरू होगी और शुक्रवार को पहला रोजा रखा जाएगा.

मुफ्ती शफीक अहमद शरीफी

शहर काजी